Movie prime
वास्तु के अनुसार घर के ये वास्तु दोष बन सकते है ग्रह स्वामी की मौत का कारण
 

आपके जीवन में आपके घरों से ज्यादा आपके घर और उसके वाश्तु का प्रभाव पड़ता है घर का सही जगह और वास्तु अनुसार होना बहुत जरूरी है नहीं तो वह संकटों वाला घर  ही सिद्ध होता है आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताते हैं जिनकी होने से घरे स्वामी का नाश हो जाता है उसकी आकस्मिक मृत्यु होती है। 

io

एक दीवार से मिले हुए दो मकान यमराज के समान होते हैं जो ग्रह स्वामी का नाश कर देते हैं लाल किताब में भी इस तरह के मकान को बुरा माना गया है इसलिए भवन के चारों और मुख्य द्वार के सामने तथा पीछे कुछ भूमि आंगन के लिए छोड़ देना चाहिए । 

io

यदि भवन भूखंड के उत्तर या पूर्व में है तो अनिष्टकारी होता है इससे  ग्रह स्वामी की संपत्ति का नाश होता है भवन भूखंड के मध्य हो तो शुभ होता है यदि भोजन कक्ष भवन के बीच में है तो गृहस्वामी कई तरह की समस्याओं को झेलना पड़ता है उसका जीवन संघर्ष में हो जाता है और बीच में लिफ्ट या शौचालय तो आपके घर का नाश हो जाएगा। 

io

पूरब दिशा निर्माण के कारण यदि पश्चिम से भारी हो जाएगा तो दुर्घटनाओं का भय रहता है दक्षिण में जलाशय होने पर भवनों में स्त्रियों पर अत्याचार होते देखे जा सकते हैं घर की अग्नि दिशा में वट, पीपल ,,अमरपाल पाक ,तथा गूलर का पेड़ होने सेग्रह स्वामी को  पीड़ा और मृत्यु होती है।