Movie prime
धनवान बनाने के लिए सरकार अब बागवानी पर कर रही है किसानो की मदद ,यहां जाने कैसे
 

सरकार अब किसानों को आर्थिक सहायता पहुंचाने के लिए तरह-तरह की योजनाएं ला रही है इसी बीच हरियाणा सरकार अब पारंपरिक फसलों की बजाय बागवानी फसलों पर फोकस करेगी ताकि किसानों की आय में बढ़ावा हो सके मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि प्रदेश के कृषि क्षेत्र में बागवानी और पशुपालन का  शेयर  बढ़ रहा है यह हमारी फसल विविधीकरण की नीतियों का परिणाम है। 

फसल विविधीकरण के लिए बागवानी ही एक सबसे अच्छा उपाय है वर्तमान में कुल फसल क्षेत्रीय लगभग 7% में बागवानी होती है इसे 2030 तक 15% तक बढ़ाने का टारगेट दिया गया है एक कार्यक्रम में सीएम ने कहा है कि बागवानी को बढ़ाने के लिए हमने एक दिशा तय की है इसके लिए नवीनतम टेक्नोलॉजी वाले 14 सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाए गए हैं इसमें 100 करोड से ज्यादा का निवेश हुआ है हमने पशुपालन को बढ़ावा देकर पशुपालकों की आय बढ़ाने का काम किया है हमारा लक्ष्य  दूध उत्पादन में हरियाणा को नंबर वन बनाने का है सीएम ने कहा कि पशुओंकेवल पशु नहीं बल्कि हमारे  किसानों के सुख -दुख का साथी है। 

पशुओं में लम्पि  की बीमारी फैल रही है ऐसे में इस समय हमें एहतियात बरतनी होगी प्रदेश सरकार 2000000 पशुओं को वैक्सीनेशन कराएगी 300000 वेक्सीन हमारे पास उपलब्ध है और 17 लाख वैक्सीन का आर्डर दिया गया है मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ग्राम पंचायत खरखड़ी को धन्यवाद दिया जिसने क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र के लिए 120 एकड़ जमीन दान की है इस केंद्र पर लगभग ₹390000000 की लागत आएगी और 2 सालों में बनकर तैयार हो जाएगी इसमें बागवानी उत्पादन से संबंधित सभी विषयों पर अनुसंधान कार्य किया जाएगा। 

इसमें देश विदेशों में उपलब्ध फल और सब्जियों, औषधि और सुगंधित पौधों मसालो आदि किस्मों का संग्रह किया जाएगा मुख्यमंत्री ने लाला लाजपत राय पशु चिकित्सा पशु विज्ञान विश्वविद्यालय की सराहना  करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय पशुपालन में हमारा भरपूर सहयोग कर रहा है आज इस विश्वविद्यालय की हरियाणा पशु विज्ञान केंद्र    बहाल  भी नींव पत्थर रखा गया है यह केंद्र 9 एकड़ 4 कनाल भूमि पर लगभग 9 करोड रुपए की लागत से 2 सालों में बनकर तैयार हो जाएगा यह केंद्र पशुपालकों के लिए काफी कारगर साबित होगा।