Movie prime
गोट फार्मिंग से ये शख्स करता है करोड़ो की कमाई ,सरकार दे रही है फार्मिंग के लिए इतनी सब्सिडी
 

जयपुर जिले के अजीत सिंह ढिल्लो का संघर्ष ही सफलता की कहानी हर किसी के लिए प्रेरणादायक है रिटायरमेंट के बाद उन्होंने मॉडल गोट फॉर्म तैयार किया और आज 80 साल की उम्र में उनका करीब एक करोड़ का टर्नओवर है जयपुर के रहने वाले अजीत सिंह दिलीप 20 साल पहले भारत सरकार की एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट से रिटायर हुए थे  रिटायर होने के बाद गोट फार्मिंग में काम करने की सोची 70 साल की उम्र में करीब 10 साल पहले जयपुर के चीथवाड़ी के पास चक दगवाड़ा में सिरोही नस्ल की 60 बकरियों के साथ गोट फॉर्म शुरू किया था धीरे-धीरे इनकी संख्या बढ़ गई कोरोना काल में करीब 1000 बकरियां को  बेच दिया गया था अभी सोजत नस्ल की 300 बकरी और बकरे हैं बड़े पैमाने पर गोट फार्मिंग मुनाफे का सौदा है। 

ty

लेकिन  यह काम पूरी मेहनत से करना होता है और अच्छी मैनेजमेंट भी मांगता है फिर मैनेजमेंट से लेकर हर चीज की 24 घंटे की निगरानी होती है अजीत सिंह ढिल्लों का कहना है कि गोट फार्म पर 24 घंटे निगरानी होती है चारा और दाना खिलाने के लिए शेड्यूल मेंटेन करना होता है और बीमार जानवर की पहचान करना  काफी मुश्किल है यह काम round-the-clock करना होता है तभी इस काम से  प्रॉफिट मिलता है सरदार गोट फार्म में अभी  300 बकरियां है और जल्दी ही यह संख्या बढ़ जाएगी। 

ty

अजीत सिंह ने बताया कि शेड बनाने का खर्चा करीब 1500000 रुपए आता है कोरोना से पहले बकरियों की संख्या हजार तक संख्या पहुंच गई थी लेकिन कोरोना काल में डिमांड में आई कमी की वजह से बकरे -बकरियों को बेच दिया गया गोट फार्मिंग को भारत सरकार ने  नेशनल लाइव स्टॉक मिशन में शामिल किया है केंद्र सरकार की स्कीम के तहत गोट फार्मिंग का बिजनेस शुरू करने पर 50 लाख तक की सब्सिडी मिलती है इसके लिए भारत सरकार की पशुपालन विभाग की वेबसाइट पर जाकर अप्लाई कर सकते हैं राजस्थान सरकार का पशुपालन विभाग इस स्कीम को कोऑर्डिनेट करता है।