Movie prime
इन 21 लाख किसानो को नहीं मिलेगा पीएम सम्मान निधि योजना की 12 वी क़िस्त ,यहां जाने क्यों
 

पीएम किसान सम्मान निधि योजना सरकार की बहुत  महत्वकांक्षी योजना है इसके जरिए किसानों को आर्थिक सहायता दी जाती है इसके तहत किसानों को हर साल ₹6000 की सहायता सरकार की ओर से दी जाती है जिसका भुगतान हर 4 महीने के अंतराल में दो ₹2000 की किस्त के रूप में किया जाता है अब तक किसानों को इस योजना की 11 किस्ते मिल चुकी है और अब 12वीं की सरकार की ओर से जारी की जाएगी जिसका किसानों को बेसब्री से इंतजार है कि इस योजना का लाभ देश के करीब 11 लाख से अधिक किसानों को मिल रहा है। 

इस योजना में भी किसान भी शामिल होंगे जो इस योजना के पात्र नहीं है ऐसे में सरकार अपात्र किसानों की पहचान कर रही है ताकि वास्तविक पात्र किसानों को इस योजना का लाभ मिल सके मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने बताया कि प्रदेश के करीब 2100000 अगली किस्त के लिए अपात्र पाए गए हैं आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में पीएम किसान योजना के तहत पंजीकृत किसान 2 पॉइंट85 करोड़ है अपात्र किसानों की संख्या ज्यादा है क्योंकि कुछ मामलों में पति-पत्नी को लाभार्थी के रूप में पंजीकृत किया गया है और लाभ प्राप्त कर रहे हैं। 

 जांच पूरी होने के बाद अपात्र खातों से वसूली होगी उन्होंने यह भी बताया कि किसान सम्मान निधि योजना की 12वीं किस्त इस महीने के आखिर तक जारी कर दी जाएगी और इस योजना का लाभ केवल उन्हीं किसानों को दिया जाएगा जिनका भूमि अभिलेख और ऑन साइट सत्यापन कार्य पीएम किसान पोर्टल पर अपलोड किया गया है उत्तर प्रदेश में पीएम किसान सम्मान निधि का लाभ ले रहे अपात्र किसानों की पहचान का काम तेजी से चल रहा है ऐसे में अभी और पात्र किसानों की पहचान सरकार कर सकती हैअपात्र किसान अब तक जितनी भी किश्त इस पीएम किसान योजना के जरिये प्राप्त कर चुके हैं, उन्हें वे सारी किस्त की राशि भारत सरकार के पोर्टल भारत कोष जीओवी डॉट पर ऑनलाइन लौटा सकते हैं। इसके अलावा भारत सरकार के लेखा शीर्षक 040100800000000 में जमा करके उसके चालान की एक प्रति उप कृषि निदेशक के कार्यालय में उपलब्ध करा दें। बुलंद शहर के कृषि विभाग के उप कृषि निदेशक आरपी चौधरी का कहना है कि योजना के अपात्र किसान इन दोनों तरीकों से हासिल की गई राशि खुद जमा करा सकते हैं किसान चाहे तो जिला कृषि अधिकारी या फिर उप कृषि निदेशक के कार्यालय से भी संपर्क कर राशि जमा करा सकते हैं।