Movie prime
Modern Farming: देश के इन १० राज्यों के किसान बने मॉडर्न ,इस तरह से करते है खेती को बना रहे है आसान
 

आज भारत का कृषि क्षेत्र प्रगति के पथ पर अग्रणी है। यहां फसलों से बेहतर उत्पादन के लिए जैविक और प्राकृतिक खेती को अपनाया जा रहा है वहीं कृषि की आधुनिक तकनीक और डिजिटलाइजेशन से किसान भी जाग रहे हैं।  इसी का नतीजा है कि खेती से कम खर्च में ही बढ़िया पैदावार दोगुनी कमाई हो रही है । देश दुनिया की खबर के साथ नई कृषि तकनीकी जानकारी के लिए अब किसान स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर रहे हैं। आज दर्जनभर  किसानों ने यूट्यूब सोशल मीडिया और दूसरे प्लेटफार्म से खेती किसानी की नई आईडिया आजमा कर सफलता हासिल की है। इस लिस्ट मध्य प्रदेश के किसान सबसे आगे है  रिपोर्ट की मानें तो किसानों ने स्मार्टफोन से नई तकनीकी जानकारी लेकर उन्हें आजमाया है और दूसरे किसानों को इन तकनीकों से जुड़ने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। देश की जनता राज्य में किसानों ने खेती की आधुनिक तकनीकी की तरफ रुख किया है। 

modrn

इन आधुनिक तकनीकों को अपनाकर बेहतर प्रदर्शन करने वाले किसान इन 10 राज्यों से आते हैं 

उत्तर प्रदेश 
मध्य प्रदेश 
राजस्थान 
महाराष्ट्र 
बिहार 
हरियाणा 
गुजरात 
कर्नाटक 
उड़ीसा 
दिल्ली 

modrn


एक अध्ययन में सामने आया कि सबसे ज्यादा धनी किसान उत्तर प्रदेश से आते हैं। यहां के किसान टेलीमेटिक्स आधारित ट्रैक्टर, मिट्टी परीक्षण पॉलीहाउस और ड्रोन से फसल की निगरानी जैसी तकनीक का भरपूर लाभ ले रहे हैं। इससे फसलों की क्वालिटी और उत्पादन भी बेहतर हुआ है । इस लिस्ट में मध्यप्रदेश दूसरे नंबर पर और राजस्थान तीसरे नंबर पर है। इन सभी 10 राज्यों में एग्रीटेक स्टार्टअप कंपनियों ने भी अहम रोल अदा किया है यहां किसानों को उपज की क्वालिटी सुधारने लागत को कम करने नई तकनीक के जरिए कृषि उत्पादों की जानकारी हासिल करने में किसानों की काफी मदद की है यहां के  किसानों ने खेती के साथ-साथ एक निष्ठा पूरे एग्रीबिजनेस की तरफ भी रुख किया है। 

modrn

किसानों को मॉडल बनाने में स्मार्ट फोन और इंटरनेट की भी अहम भूमिका अदा की है। अब किसान घर बैठे ही अपनी उपज की निगरानी कर सकते हैं घर से ही फसलों को मंडियों तक पहुंचाकर उन्हें ऑनलाइन बैठ सकते हैं बीज खाद उर्वरक कीटनाशक और यहां तक कि कृषि उपकरणों की होम डिलीवरी होने लगी है साथ इ -नाम जैसे प्लेटफार्म पर किसानों को अपनी उपज का सही भाव मिल रहा है इससे गांवों और शहरों के बीच की दूरी भी कम हुई है।