Movie prime
Kisan Samridhi Yojana :बंजर पड़ी भूमि को लेकर सरकार ने चलाई ये योजना ,खर्च करेगी 600 करोड़ रूपये बंजर पड़ी भूमि को लेकर सरकार ने चलाई ये योजना ,खर्च करेगी 600 करोड़ रूपये
 

यूपी सरकार की ओर से किसानों की आय बढ़ाने की कई प्रयास किए जा रहे हैं इसके तहत कई प्रकार की योजनाएं भी चलाई जाती है इनमें से एक किसान समृद्धि योजना योजना इस योजना का पूरा नाम पंडित दीनदयाल उपाध्याय योजना है इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार देश 2 पॉइंट 68 करोड रुपए खर्च करेगी इस योजना के जरिए राज्य बंजर और जलभराव वाली विकास भूमि पर खेती को जो खेती योग्य बनाया जाएगा। 

इससे  किसान और मजदूरों को लाभ होगा आज हम आपको किसान समृद्धि योजना यूपी की जानकारी देते हैं योगी आदित्यनाथ सरकार की ओर से राज्य किसानों के खेत में किसान समृद्धि योजना चलाई जा रही इस योजना को साल 2018 में शुरू किया गया था राज्य सरकार की ओर से इस योजना की अवधि को 5 साल के लिए बढ़ा दिया गया है ताकि इसका लाभ किसानों को अधिक से अधिक मिल सके इस योजना के तहत राज्य बंजर भूमि को  फिर से उपजाऊ किया जाएगा  राज्य में चावल ,गेहूं ,मक्का ,गन्ना सहित कई प्रकार की  फसलों का उत्पादन होता है यहां अधिकांश किसानों की आजीविका का प्रमुख साधन खेती  है इसे देखते हुए सरकार की ओर से जलभराव वाली भूमि  को फिर से उपजाऊ बनाने की योजना काफी महत्वपूर्ण है। 

इससे राज्य में खेती का क्षेत्र बढ़ेगा और फसल उत्पादन में बढ़ोतरी होगी यूपी सरकार की ओर से किसान समृद्धि योजना के तहत अगले 5 सालों में 2. 68 करोड रुपए खर्च किए जाने हैं इसमें 501.59 करोड रुपए राज्य सरकार की ओर से खींच खर्च किए जाएंगे वही 51 पॉइंट 25 करोड़ पर मनरेगा के माध्यम से खर्च किए जाएंगे   40 पॉइंट 84 करोड रुपए किसानों की ओर से खर्च किए जाएंगे। 

यह योजना उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में से 74 जिलों में लागू की गई है इस योजना को मात्र गौतम बुध नगर में नहीं लागू किया जाएगा यूपी में अब तक 5 साल के दौरान राज्य की 1,57,190 हेक्टर जमीन को खेती योग्य बनाया गया है इस योजना पर करीब 332 करोड़  खर्च किए जा चुके हैं इस योजना की प्रगति की और  नजर डाले तो इसके अच्छे परिणाम मिले हैं इस परियोजना से क्षेत्र में विभिन्न फसलों के लिए 85258 की 1 टन प्रति हेक्टेयर भूमि की बढ़ोतरी हुई है इस योजना के अंतर्गत अगले 5 सालों के लिए 219250 लाख  हेक्टर भूमि को सुधारने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।