Movie prime
किसानो को जल्दी ही मिलने वाला है पीएम फसल योजना का मुआवजा ,यहां जाने कैसे उठाये इसका लाभ
 

सरकार की ओर से किसानों के लिए कई तरह की अच्छी योजनाएं चलाई जा रही है  जिनका लाभ किसानों को मिलता रहता है इन योजनाओं में से एक 'पीएम फसल बीमा योजना' है  इस योजना के तहत किसानों को प्राकृतिक आपदा की वजह से हुए फसलों के नुकसान की भरपाई की जाती है इस योजना के तहत किसानों की फसलों का बीमा किया जाता है यदि बीमित फसल में प्राकृतिक आपदाओं के कारण नुकसान होता है तो किसानों को मुआवजा राशि दी जाती है यह योजना भारत के अधिकांश राज्यों में लागू है राज्य में फसल बीमा को लेकर हाल ही में बैठक हुई जिसमें किसानों को बारिश से हुई फसल को नुकसान का मुआवजा शीघ्र ही देने के निर्देश दिए गए हैं। 

राजस्थान के मुख्य सचिव की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की बैठक आयोजित की गई इसमें मुख्य सचिव ने राज्य के किसानों को बीमा क्लेम के लिए बीमा कंपनियों से संपर्क करके किसानों को मुआवजा दिलवाने करने के निर्देश दिए हैं बैठक में मुख्य सचिव ने निर्देश दिए कि 2022 मैं फसल कटाई का ऑनलाइन रिकॉर्ड शत प्रतिशत होना चाहिए इसके लिए कृषि अधिकारी अपने जिला कलेक्टरों से समन्वय स्थापित करें समीक्षा बैठक में कृषि विभाग के आयुक्त कानाराम ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत विगत 3 वर्षों में अब तक 16000 करोड़ के बीमा क्लेम वितरित किए जा चुके हैं बैठक में कृषि विभाग के आयुक्त कानाराम ने कहा कि इस वर्ष खरीफ 2022 में करीब 2 पॉइंट 20 करोड़ की फसल बीमा पॉलिसी या की गई है इसके तहत 6600000 हेक्टर क्षेत्र का बीमा किया जा चुका है। 

इस वर्ष मानसून के दौरान अधिक जलभराव की वजह से जिन किसानों का फसल का नुकसान हुआ है उसका सर्वे का कार्य भी जारी है सर्वे के बाद किसानों को फसल नुकसान का उचित मुआवजा जल्दी ही दिलवाया जाएगा 'पीएम फसल बीमा' योजना के नियमों के अनुसार यदि किसान की फसल में 33% से अधिक नुकसान होता है तो उसे फसल बीमा के तहत मुआवजा दिया जाता है इसके लिए किसान को जिस बीमा कंपनी से उसने बीमा करवाया है उसे 72 घंटे के अंदर सूचना देनी होती है इसके बाद कंपनी द्वारा सर्वे के लिए नियुक्त किए गए अधिकारी खेत में फसल का सर्वे करके फसल खराबे की रिपोर्ट बनाते हैं इस रिपोर्ट के आधार पर ही किसानों को फसल बीमा के तहत मुआवजे की राशि दी जाती है। 

'पीएम फसल बीमा 'योजना के प्रावधानों के अनुसार ओलावृष्टि या बारिश से फसल नुकसान होने के 72 घंटे के अंदर किसानों को बीमा कंपनी इसकी जानकारी देना जरूरी है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत बीमित किसानों को मुआवजा तभी मिलता है जब समय पर नुकसान की जानकारी संबंधित कंपनी को दे दे किसान फसल नुकसान की सूचना बीमा कंपनी के टोल फ्री नंबर या क्रॉप इंश्योरेंस के माध्यम से दे सकते हैं इसके अलावा प्रभावित पीड़ित किसान जिलों में कार्यरत बीमा कंपनी कृषि कार्यालय अथवा संबंधित बैंक को  प्रपत्र भरकर सूचना दे सकते हैं जो किसान   पीएम फसल बीमा का लाभ उठाना चाहते हैं उन्हें पहले अपनी फसल को बीमा करवाना होगा यह  बिमा साल में दो बार होता है एक खरीफ सीजन और दूसरा   रबी सीजन में। 

बीमा करवाने वाले किसानों को खरीफ फसल के लिए 2% और रबी फसलों के लिए डेढ़  प्रतिशत प्रीमियम अदा करना होता है शेष प्रीमियम राज्य और केंद्र सरकार की ओर से दिया जाता है इस तरह इस योजना के जरिए बहुत ही कम प्रीमियम पर अपनी फसलों का बीमा करा सकते हैं इसके लिए किसान ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं या फिर फसल बीमा कंपनी के एजेंट के द्वारा फार्म भर सकते है।