Movie prime
श्राद्ध में आ रही इस एकदशी को ऐसे करे भगवान विष्णु की पूजा ,तर जाएगी पूर्वजो की सात पीढ़ियाँ
 

21 सितंबरके अश्विन महीने के कृष्ण पक्ष की 11वीं तिथि है इसे इंदिरा एकादशी कहते हैं श्राद्ध  में आने वाली एकादशी बहुत खास होती है इस तिथि पर भगवान विष्णु की पूजा करने से पितरों को संतुष्टि मिलती है इंदिरा एकादशी का व्रत करने से पितरों का पुण्य मिलता है वही स्थिति पर भगवान शालिग्राम की पूजा और व्रत रखने का विधान है। 

inds

ज्योतिष के अनुसार एकादशी पर आंवला ,तुलसी ,अशोक ,चंदन या पीपल का पेड़ लगाने से भगवान विष्णु के साथ पित्तर  भी प्रसन्न होते हैं वही उपनिषदों में कहा गया है कि भगवान विष्णु की पूजा से पितरों को संतुष्टि मिलती है अगर कोई पूर्वजो ने जाने  अनजाने में किए गए किसी पाप की वजह से यमराज के पास दंड भोग रहे हैं विधि विधान से इंदिरा एकादशी का व्रत करने से उन्हें मुक्ति मिलती है। 

indira

इस दिन तर्पण ,पिंडदान और ब्राह्मण भोज करवाने से मृत आत्माओं को मोक्ष मिलता है इसलिए इंदिरा एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा व्रत और दान का संकल्प लेना चाहिए साथ ही प्रार्थना करें की  पितरो को मुक्ति मिले इस इंदिरा एकादशी का व्रत का महत्व इसलिए भी  ज्यादा बढ़ जाते हैं कि पितृपक्ष में आती है ज्योतिष के अनुसार एकादशी पर विधिपूर्वक व्रत करके पुण्य को अपने पूर्वजों के नाम प्रदान कर दें तो उन्हें मोक्ष मिलता है और व्रत करने वाले  को मोक्ष की प्राप्ति होती है पदम पुराण के अनुसार इस एकादशी का व्रत करने वाले व्यक्ति की 7 पीढ़ियों तक  तर जाते हैं इस एकादशी का व्रत करने वाला  मोक्ष को प्राप्त होता है इंदिरा एकादशी का व्रत करने और भगवान विष्णु की पूजा करने से धन की प्राप्ति होती है।