Movie prime
श्राद्ध करने के नहीं है पैसे तो पुराणों के अनुसार ऐसे करे अपने पित्तरो को खुश
 
 

हिंदू धर्म शास्त्र श्राद्ध  का काफी महत्व है पितरों का श्राद्ध करना है हर व्यक्ति  का अनिवार्य कर्तव्य माना जाता है जबकि पूर्वजों का श्राद्ध नहीं करने पर व्यक्ति पितृ दोष का भागी होकर घोर दुख होता है ऐसे में सवाल उठता है कि धन की कमी  या अन्य परिस्थिति की वजह से कोई व्यक्ति अपने पितरों का श्राद्ध ना करता है तो ऐसी स्थिति में क्या कर सकते हैं। 

pitru

ज्योतिष के अनुसार वैसे तो पितरों का श्राद्ध कर्म पूरे विधि विधान से करना चाहिए इसमें स्वादिष्ट पकवान बनाकर  भोजन और  दान करना चाहिए लेकिन यदि कोई व्यक्ति के पास  सामर्थ्य कम है   तो पदम पुराण के अनुसार ऐसा व्यक्ति साग सब्जी से भी साथ श्राद्ध करके पितरों को प्रसन्न कर सकता है। 
pitru

इस संबंध में पदम पुराण में लिखा गया है कि ऐसा मनुष्य श्रद्धा से यथा विधि सब्जी सभी  पित्तरो को अर्पित कर सकता है पदम् पुराण लिखा है कि यदि सब्जी के रुपए भी नहीं है तो उसे घास ,लकड़ी या अन्य सामान बेचकर सब्जी खरीदकर उसे श्राद्ध करना चाहिए पदम पुराण के अनुसार इतनी मेहनत का फल भी अधिक होता है पदम पुराण के अनुसार यदि सब्जी की व्यवस्था ना हो पितरो के नाम घास काट कर उसे गाय को खिलाने पर भी पूर्वज प्रसन्न होते हैं .

pitru

श्राद्ध के लिए यदि गाय की घास ना मिले तो उसका भी शास्त्रों में उपाय बताया गया है इस संबंध में विष्णु पुराण कहते हैं कि यदि श्राद्ध कर्म के लिए किसी व्यक्ति के पास बिलकुल धन या  सामग्री ना हो तो उसे अपने हाथ पर कर श्रद्धा भाव से इस मंत्र का जाप करना चाहिए न मेस्ति वित्तं धनं च नान्यच्छ्राद्धोपयोग्यं स्वपितृन्न्तोस्मि।
तृप्यन्तु भक्त्या पितरो मयैतौ कृतौ भुजौ वत्र्मनि मारुतस्य॥” शास्त्रों के अनुसार श्राद्ध कैसे भी किया जाए लेकिन हर परिस्थिति में करना जरूरी है उसे कभी छोड़ना नहीं चाहिए।