Movie prime
9 दिनों में माँ को करना है प्र्शन्न तो इन नियमो का करे पालन
 

26 सितंबर से नवरात्रि की शुरुआत हो रही है जो 5 अक्टूबर तक चलेगी इन 9 दिनों में माता के भक्त माता की पूजा करते हैं और उन्हें प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं नवरात्रि के 9 दिनों में क्या-क्या होता है इसके बारे में हम आपको बताते हैं और कुछ नियम है जिनको अपनाकर आप माता को प्रसन्न कर सकते हैं। 

nvra

नवरात्रि के पहले दिन कलश की घटा स्थापना होती है इसे कलश स्थापना और घटस्थापना भी कहते हैं नवरात्रि में मांस ,मछली ,अंडा और एल्कोहल का सेवन बिल्कुल वर्जित है नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करनी चाहिए नवरात्रि के समय बाल और नाखून काटना भी मना है। 

nvra

इसके तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा होती है नवरात्रि में व्रत के समय चावल और गेहूं जैसे अनाज का सेवन नहीं करना चाहिए ऐसे में सिंघाड़े का आटा ,कुट्टू का आटा और साबूदाने से बनी चीजें ही खाए अगर आपने नवरात्रि का व्रत किया है इस समय लड़ाई झगड़े चुगली से भी दूर रहे कहते हैं कि माता 9 दिनों में धरती पर वास करती है और अपने भक्तों को आशीर्वाद देती है इसलिए इन 9 दिनों में माता को प्रसन्न करने के लिए अपनी हर बुरी आदत को छोड़कर अच्छे कामों में समय  बिताये। 

nvra

खाने में हमेशा शुद्ध घी या पीनट तेल का ही प्रयोग करें खाने में साधारण नमक की जगह से  सेंधा नमक का प्रयोग करें नवरात्रि के छठे दिन मां दुर्गा की स्वरूप कात्यायनी की आराधना की जाती है 9 दिनों में माता के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा होती है नवरात्रि के आखिरी दिन मां दुर्गा के नौ स्वरूप सिद्धिदात्री की पूजा होती है उनके नाम से ही पता चलता है कि यह सिद्धियों को प्रदान करती है इस दिन कंचक पूजा करके उनको भोजन कराकर दान दक्षिणा देकर ही विदा करना चाहिए इससे माता प्रसन्न होती है सदा सुखी रहने का आशीर्वाद देती है।