Movie prime
जन्मदिन स्पेशल :एआर रहमान कभी थे हिन्दू लेकिन इस एक घटना की वजह से बदल दिया अपना धर्म
 

हिंदी फिल्मों के प्रसिद्ध संगीतकारों में से एक ए आर रहमान  ने आज सिनेमा जगत की अलग हो मुकाम पर है ए आर रहमान को म्यूजिक  का बादशाह कहा जाता है गोल्डन ग्लोब अवार्ड से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय ए आर रहमान का 6 जनवरी को जन्मदिन है साल 1967 में जन्मे ए आर रहमान 55 साल के हो गए हैं अपने टैलेंट से इंटरनेशनल लेवल पर भारत  का मान बढ़ाने वाले ए आर रहमान को संगीत अपने पिता से विरासत में मिला था उनके पिता आरके शेखर मलयाली फिल्मों में संगीत देते थे और केवल 11 साल की उम्र से ही ए आर रहमान की पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ किसी फ़िल्मी कहानी से कम नहीं है। 

io

ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्होंने ब्रिटिश भारतीय फिल्मों में उनके नामांकित हुए थे आज उनकी निजी जिंदगी के बारे में बताते है  दरअसल  ए आर रहमान का जन्म का नाम ए एस दिलीप कुमार था जिसमें इसे बाद में उन्होंने बदल लिया और अल्लाह नाम रख लिया इसके बाद वह ए आर रहमान बने दरअसल एक बार रहमान की छोटी बहन काफी बीमार हो गई और सभी चिकित्सकों ने यह कह दिया कि उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं है रहमान ने अपनी छोटी बहन के लिए कई मस्जिदों में दुआएं मांगी और जल्दी ही उनकी दुआ कुबूल हो गई। 

ui
जब उनकी बहन चमत्कारी रूप से एकदम ठीक हो गई तो इस चमत्कार को देखकर रहमान ने इस्लाम को कबूल कर लिया ए आर रहमान ने 1991 में अपना खुद का म्यूजिक रिकॉर्ड करना शुरू कर दिया था उन्हें फिल्म डायरेक्टर मणि रत्नम ने फिल्म में संगीत देने के लिए बुलाया था फिर म्यूजिकल हिट रही फिल्म में ए आर रहमान को फिल्म फेयर अवार्ड मिला  25 साल की उम्र में रहमान को खुद को असफल मानते और  रोज आत्महत्या करने के बारे में सोचते थे रहमान ने कई फिल्मों में संगीत दिया और सभी फिर सब प्ले संगीत हिटरहा ऐ आर रहमान ने सायरा बानो से शादी की है और उनके तीन बच्चे है।