Movie prime
Health :अगर हो गया ओमीक्रॉन तो यहां जाने कोनसी स्तिथि है हॉस्पिटल मै एडमिट होने की
 

 इस समय पूरी दुनिया कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रॉन  के बढ़ते मामलों को देख कर दहशत में है एक तरफ जहां अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देश में ओमीक्रॉन का कहर पीक पर है वहीं भारत में ओमीक्रॉन संक्रमण गिरफ्तार लोगों को अपनी जद में ले रहा है अभी लंदन में खबर आ रही है कि ओमीक्रॉन के बहुत ज्यादा मरीज अस्पताल में भर्ती किए जा रहे हैं हालांकि कम लक्षण वाले मरीजों को हॉस्पिटल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ रही है। 

yu

लेकिन जनता में इस बात का भ्रम जरूर है कि क्या ओमीक्रॉन के हर मरीज को हॉस्पिटल में भर्ती होना जरूरी है लंदन में बड़ी संख्या में मरीज हॉस्पिटल में जा रहे हैं लेकिन जो लोग हॉस्पिटल में भर्ती किए जा रहे हैं उनमें एक बात कॉमन है की उन्होंने कोरोना वैक्सीनेशन नहीं करवाया है रॉयल लंदन हॉस्पिटल के आईसीयू डॉक्टर प्रोफेसर रूपर्ट पीयर्स के अनुसार ऐसे लोग ज्यादा गंभीर तौर पर बीमार हो रहे हैं जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाया है लंदन में वैसे भी वैक्सीनेशन काफी कम हुआ है इसलिए यहां पर भर्ती होने वालों की संख्या भी ज्यादा है। 

yu

वही अगर भारत की बात करें तो यहां वैक्सीन को लेकर फैलाई गयी जागरूकता ने काम किया और अधिकतर लोगों ने वैक्सीन लगवा लिया ऐसे में दिल्ली के अस्पतालों में ओमीक्रॉन  के मरीजों की संख्या ज्यादा होने के बावजूद क्रिटिकल लोगों की संख्या कम है हेल्थ एक्सपर्ट सुझाव दे रहे हैं कि जिन लोगों को ओमीक्रॉन  के लक्षण दिख रहे हैं वह सबसे पहले टेस्ट करवाएं और लक्षणों की गंभीरता को देख कर ही अस्पताल जाए यानी जिन लोगों को ओमीक्रॉन के हल्के लक्षण है वह घर पर ही दवा लेकर आराम और आइसोलेशन का पालन करें और 5 दिन बाद फिर से टेस्ट करवा सकते हैं। 

yu

गंभीर स्थिति जैसे बुखार ,सांस लेने में दिक्कत होने पर ही आईसीयू में भर्ती होने की नौबत आ रही है वहीं गले में खराश, हल्का बुखार, सिर में दर्द है तो घर पर दवा लेकर खुद को आइसोलेट और आराम करें अगर सिर में ज्यादा और लगातार दर्द हो रहा है, तेज बुखार और लूज मोशन के चलते शरीर की हालत खराब हो गई है और सांस फूल रही है तो हॉस्पिटल का रुख kre।