Movie prime

इस तरह से मेंटेन करेंगे तो गाड़ी के टायर चलेंगे लम्बे समय तक

 

प्रत्येक वाहन मालिकों के लिए जरूरी है अपनी गाड़ी के टायरों को देखभाल करना ताकि  टायर को लंबे समय तक सड़क पर चलाया जा सके। इससे ना केवल आपके टायर की आयु बढ़ती है।  बल्कि इससे गाड़ी के इंजन पर कोई अतिरिक्त प्रभाव नहीं पड़ता है।  वाहन निर्माता वाहन के टायर के आकार को तय करते  । समय ट्रैक्शन, प्रदर्शन, स्टैंडिंग आदि जैसे चीजों के रिसर्च में काफी पैसे खर्च करते हैं। 

 इन टिप्स को फॉलो करके बढ़ाएं अपनी टायर की लाइफ। 

टायर प्रेशर 

यह कार के टायरों के रखरखाव की दिशा में सबसे सरल और सबसे प्रभावी कदम है। कम हवा वाली टायर में सड़क के साथ व्यापक संपर्क पैच होगा  तेज होगा और आपके टायर को तेजी से खराब कर देगा इससे ईंधन दक्षता भी कम होगी क्योंकि कम हवा वाले टायरों को घुमाने से अधिक शक्ति की आवश्यकता होगी और यदि आपके पास अधिक हवा भरा टायर है  तो आपके पास सतह के साथ एक छोटा संपर्क पैच होगा, जिससे ब्रेकिंग के समय स्थिति में गड़बड़ी हो सकती है। 

टायरों का नियमित निरीक्षण करें 

टायरों  के नियमित निरीक्षण से आपको संभावित मुद्दों का समाधान करने में मदद मिलेगी।  उदाहरण के लिए टायर में लंबे समय तक कील फंसी रहने से टायर खराब हो सकता है। इसी तरह दिया आपके टायर को बदलने की आवश्यकता है तो फुटपाथ और टायर के चलने पर कठोर घर्षण संकेत भी दे सकते हैं। इसी तरह एक दृश्य निरीक्षण आपको अन्य मुद्दों की पहचान करने में मदद कर सकता है। 

अपसाइडिंग से बचे 

 भारत में बहुत से लोग बाजार के बाद के आकार का विकल्प चुनते हैं। जिसका अर्थ है कि बड़े टायर वाली कार को सेट करना है। यह एक विस्तृत संपर्क पैच के कारण कर्षण में सुधार करता है, लेकिन इसके कई नुकसान हो सकते हैं, जैसे कि कम ईंधन अर्थव्यवस्था, अनुचित स्टीयरिंग फीडबैक और हैंडलिंग, और टायरों के तेजी से खराब होना। अपसाइज करने वालों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि पुराने और नए टायरों के बीच का व्यास निर्धारित सीमा के भीतर हो।