Movie prime
इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग में आता है कितना खर्च ,यहां जाने पूरी डिटेल
 

इलेक्ट्रिक कार को चार्जिंग में कितना समय लगेगा और सिंगल चार्ज  से कितना किलोमीटर चलेगी यह तो इलेक्ट्रिक कार मेकर कम्पनी बताती है लेकिन इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग में कितना खर्च आएगा और कितना पैसा लगेगा यह कोई नहीं बताता। इलेक्ट्रिक कार चार्जिंग में कितना पैसा खर्च होगा यह इस बात पर निर्भर करता है कि इलेक्ट्रिक  कार की बैटरी कितनी बड़ी है । 

elektik

एक इलेक्ट्रिक कार को फुल चार्ज करने का खर्च करीब ₹ 150 से ₹300 तक हो सकता है 


 अब कार में लगी बैटरी की कैपेसिटी कितनी है सामान्यतः एक इलेक्ट्रिक कार को फुल चार्ज करने का खर्च करीब ₹ 150 से ₹300 तक हो सकता है हम अपने मोबाइल फोन को डेली बेसिस पर चार्ज करते हैं तो क्या आपने कभी घर से बाहर पैसे देकर अपने मोबाइल की फोन बैटरी को चार्ज करवाते है  शायद नहीं। क्योंकि हमें पता होता है कि हम कितना समय बाहर रहने वाले हैं और मोबाइल फोन कितना यूज आने वाला है उसके मुताबिक हम पहले ही अपने मोबाइल को घर से चार्ज करके निकलते हैं। 

elektik

कार कितनी  चलेगी उसके अनुसार यह पहले अपने कार को चार्ज कर लेते हैं 

बिल्कुल इसी तरह का प्रोसेस इलेक्ट्रिक कार ओनर्स के द्वारा अपनाया जाता है उन्हें पता होता है कि कार कितनी  चलेगी उसके अनुसार यह पहले अपने कार को चार्ज कर लेते हैं उसके बाद ही घर से निकलते हैं या फिर अपने काम पर निकल जाते हैं और वापस काम पर लौट कर जा फिर चार्ज कर लेते हैं। भारत में 98% लोग जो मल्टी स्टोरी बिल्डिंग में भी नहीं रहते हैं और  ग्राउंड फ्लोर पर ही रहते हैं उनके लिए अपनी कार  इलेक्ट्रिक कार को घर पर चार्ज करना कोई मुश्किल नहीं होता है। घर पर चार्ज करने की सबसे बड़ी वजह यह है कि घरेलू बिजली की कीमत कर्मिशयल बिजली की अपेक्षा काफी कम होती है और घरेलू बिजली पर सरकार भी सब्सिडी भी देती है। 

elektik

हमें चार्जिंग स्टेशन की गली-गली में जरूरत नहीं है उनकी जरूरत केवल हाईवे पर पड़ेगी 

विलेज में तो ये सब्सिडी और भी बढ़ जाती है इसलिए विलेज में इलेक्ट्रिक कार चार्ज करना बहुत ही सस्ता पड़ता है। जब घर पर कार  को सस्ते में चार्ज किया जा सकता है तो बाहर ज्यादा पैसा लेकर क्यों चार्ज करवाएंगे और समझदार व्यक्ति कार को घर से ही चार्ज करके निकलेगा यही कारण है कि हमें चार्जिंग स्टेशन की गली-गली में जरूरत नहीं है उनकी जरूरत केवल हाईवे पर पड़ेगी ताकि हमें लंबी दूरी पर जाना हो तो कार चार्जिंग के लिए उनका इस्तेमाल किया जा सके।