Movie prime
क्या होता है पञ्चसूना पाप ,यहां जाने इसे दूर करने के उपाय
 

हिंदू धर्म के मनुष्य के कर्मों को पुण्य और पाप दो भागों में बांटा गया है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार पुण्य करने वाला स्वर्ग का भागी होता है जबकि पाप करने वाला मनुष्य नरक की यातनाएं भोगनी पड़ती थी नीच योनि में जन्म लेता है। यह पाप तन, मन और वचन से होते हैं जो जानबूझकर किए जाने के साथ अनजाने में भी होते रहते हैं ऐसे में आज हम आपको ऐसे पाप बताने जा रहे हैं जो अनजाने में होते हैं। 

paap


शास्त्रों में इन्हें पञ्चसूना पाप या दोष कहा गया है भविष्य पुराण में इनसे बचने के उपाय भी बताए गए हैं। क्या है  पञ्चसूना पाप।  ज्योतिष के अनुसार अनजाने में होने वाले पञ्चसूना पाप का उल्लेख भविष्य पुराण में  व मनु स्मृति सहित कई  हिंदू धर्म के कई ग्रंथों में है। ये दोष पांच जगहों व समय पर होते हैं।  इनमे भोजन पकाते समय आग में कीट पतंगो का जलना अनजाने में होने वाला पहला पाप है , चक्की में आटा पिसतेसमय जीवो का पिसना   दूसरा तथा मसाला ,कूटने,सिलवट पर पीसते समय जीवों के दबने-पिसने से होने वाली हिंसा तीसरा दोष है।  इसी तरह पानी के स्थान में पानी  गिरने में बहने से जीव हत्या चौथा तथा झाड़ू लगाते समय चलती फिरती जीवो की हत्या पांचवा दोष है। 

paap

अनजाने में होने की वजह से पञ्चसूना पाप कहलाते है इस संबंध में मनुस्मृति में भी लिखा गया है। 


‘पञ्चसूना गृहस्थस्य चुल्ली पेषण्युपस्कर: .
कण्डनी चोदकुम्भश्च बध्यते यास्तु वाहयन् ..’
(चुल्ली पेषणी उपस्कर: कण्डनी च उदकुम्भ: च गृहस्थस्य पञ्च सूना: या: तु वाहयन् बध्यते .)
यानी चूल्हा, चक्की, झाड़ू-पोंछे के साधन, सिलवट व पानी का घड़ा गृहस्थ के लिए पाप का कारण है। 

paap

 ऐसे दूर होता है पञ्चसूना पाप

 भविष्य पुराण के अनुसार पंपञ्चसूना पाप  के निवारण के लिए महा युगों का वर्णन किया गया ह।  इइसमें देव, ब्रह्म, भूत, पितृ और मनुष्य यज्ञ के अलावा सूर्य, गुरु, अग्नि व अतिथि का पूजन-सत्कार तथा दान कार्य करने का विधान है पुराणों के अनुसार, इनसे पंचकुला के अलावा खेती, व्यापार और क्रोध तथा झूठ से होने वाले पापों से भी मुक्ति मिलती है।