Movie prime
क्या तक्षक की वजह से कलयुग का आगमन हुआ था ,यहां जाना पुरानी मान्यता
 

तक्षक नाग के बारे में हर कोई जानता है तक्षक का जिक्र महाभारत ग्रंथ में भी है यह प्रजापति कश्यप की पत्नी कद्रू से उत्पन्न हुआ था जिन्होंने 1000 सर्पों को जन्म दिया था तक्षक नागराज वासुकी से छोटे सभी सर्पों में सबसे ज्यादा भयंकर था यह पाताल लोक के 8 प्रमुख नागो  में से एक माना जाता है तक्षक को सर्प राज भी कहते हैं तक्षक भगवान शिव के गले में रहने वाले नागराज वासुकी का छोटे भाई हैं। 

tkshk

महाभारत काल में जब पांडवों के पुत्र परीक्षित राज कर रहे थे तक्षक ने उनको डसा था जिससे उनकी मौत हो गई थी राजा परीक्षित की मौत से गुस्साए उनके बेटे ने जनमेजय ने  तक्षक समेत सभी विषैले सांपों को जलाकर भस्म करने वाला यज्ञ का आयोजन किया था कलयुग ने जब धरती पर पैर पसारे तो राजा परीक्षित में कलयुग में प्रवेश कर लिया और इससे राजा परीक्षित की बुद्धि भ्रष्ट हो गई एक रोज राजा जंगल में शिकार खेलने गए तो वहां उन्हें मौन अवस्था में बैठेशमीक नामके ऋषि दिखाई दिए परीक्षित ने उनसे बात करनी चाहिए और जवाब ना मिलने पर वह क्रोधित हो गए और उन्होंने एक मरा हुआ सांप ऋषि के गले में डाल दिया उसके बाद वे वहां से चले गए तो यह बात जब ऋषि के पुत्र शृंगी को पता चली तो उन्होंने श्राप दे दिया कि आज से 7 दिन बाद विषैला तक्षक नाग परीक्षित को डस लेगा और कोई उन्हें नहीं बचा पाएगा परीक्षित की  तक्षक के डस   जाने पर मौत हो गई और परीक्षित के बेटे जनमेजय ने सिंहासन संभाला। 

tkshk


ऋषि यों के बताए अनुसार जनमेजय ने अपने पिता की मौत का बदला लेने का फैसला किया हालांकि तक्षक को देवराज इंद्र का आश्रय प्राप्त था इसलिए जनमेजय ने उसे तब नहीं मार पाए फिर क्यों ने जन्मेजय के लिए एक विशेष यज्ञ शुरू किया जनमेजय ने कहा कि संसार भर के सर्प जल कर  मेरे  जो भी  तक्षक के साथ हो तो वह यहां भी खींचे चले हो जाए और भस्म हो जाए तब इंद्र भी तक्षक को छोड़कर भाग  गए थे।