Movie prime
Vivah Panchami: विवाह पंचमी जैसे शुभ महूर्त के दिन को क्यों माना जाता है विवाह के अशुभ ,यहां जाने इसका कारण
 

हिंदू धर्म में विवाह पंचमी का दिन विशेष महत्व होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन माता सीता और भगवान श्री राम का विवाह हुआ था। हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल विवाह पंचमी का पर्व मार्गशीर्ष महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस साल पंचमी 28 नवंबर 2022 को होगी भक्त  इस दिन व्रत रखते हैं और पूजा पाठ करते है। 

vivah

 पंचमी के दिन हिंदू धर्म में शादी विवाह जैसे शुभ कार्य नहीं होते

 इस दिन माता सीता भगवान राम के विवाह का आयोजन भी कराया जाता है और इसे एक उत्सव के रूप में मनाया जाता है।  इस मौके पर राम जी के मंदिरों में भी काफी धूमधाम देखने को मिलती है। माता सीता की पूजा भी होती है लेकिन इस तिथि को शादी के लिए अशुभ मानी जाती है वह पंचमी के दिन हिंदू धर्म में शादी विवाह जैसे शुभ कार्य नहीं होते। शादी के शुभ मुहूर्त होने और ग्रह स्थिति ठीक होने के बावजूद भी इस दिन शादी विवाह नहीं किये जाते है क्योंकि शादी कराने के लिए विवाह पंचमी के दिन को अशुभ माना जाता है। दरअसल इससे जुड़ी एक खास वजह भी है। 

vivah

 भगवान राम और सीता की जोड़ी आदर्श पति -पत्नी के रूप में जानी जाती है। बड़े बुजुर्ग भी किसीभी नव विवाहित जोड़े को राम सीता जैसी जोड़ी का आशीर्वाद देते हैं। लेकिन कहा जाता है कि भगवान राम और माता -सीता का विवाहित जीवन अत्यंत दुख भरा रहा ,राज महल छोड़कर 14 साल वनवास में रहना पड़ा ,माता सीता का रावण द्वारा अपहरण होना इसके बाद माता सीता को अग्नि परीक्षा देना और श्रीराम द्वारा गर्भवती अवस्था में माता सीता का परित्याग करना, गर्भवती  होने के बाद भी माता सीता ने एक आश्रम में अपने दोनों पुत्रों लव और कुश को जन्म दिया। 

vivah

 शादी विवाह में किसी प्रकार की अड़चन आ रही है या किस कारण देरी हो रही है विवाह पंचमी के दिन भगवान राम और माता सीता की पूजा जरूर करें

इन्ही घटनाओं के कारण विवाह पंचमी के दिन लोग अपनी बेटियों की शादी नहीं करते क्योंकि उनकी बेटी का जीवन भी माता सीता की तरह दुखी तरीके से ना बीते। इस दिन पूजा -पाठ करना शुभ माना जाता है उन्हें लम्बी उम्र की प्राप्ति होती है।  शादी विवाह में किसी प्रकार की अड़चन आ रही है या किस कारण देरी हो रही है विवाह पंचमी के दिन भगवान राम और माता सीता की पूजा जरूर करें। शीघ्र विवाह के योग बनते हैं वहीं शादीशुदा जोड़ा विवाह पंचमी के दिन व्रत पूजन करता है तो उनके जीवन में कोई परेशानी नहीं आती है।