Movie prime
इस बार राखी बंधेगी केवल प्रदोष काल में ही ,यहां जाने क्यों
 

रक्षा सूत्र से रक्षाबंधन का त्यौहार भाई और बहन के बीच प्रेम और अटूट रिश्ते को दर्शाता है इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई में सुंदर-सुंदर राखिया बांधती  है और उनकी लंबी आयु की कामना करती है हर साल  श्रावण  मास की पूर्णिमा को यह पर्व मनाया जाता है इस साल रक्षाबंधन का पर्व 11 अगस्त 2022 को श्रावण शुक्ल चतुर्दशी पूर्णिमा के दिन मनाई जाएगी। 

rakj

खास बात यह है कि इस साल बहने अपने भाइयों को प्रदोष काल में राखी बंधेगी आज हम आपको बताते हैं  की  आखिर क्यों इस बा रराखी  प्रदोष काल में बाँधी  जाएगी और उसका कारण क्या है दरअसल पंचांग के अनुसार गुरुवार 11 अगस्त को पूर्णिमा सुबह 10:30 बजे से शुरू होगी जो कि अगले दिन 12 अगस्त को सुबह 7:00 बजे तक रहेगी 12 अगस्त को पूर्णिमा तीन महूर्त से कम समय में रहने की वजह से राखी का त्यौहार 11 अगस्त को मनाया जाएगा और राखी प्रदोष काल में ही बांधी जाएगी। 

rakj

ज्योतिष के अनुसार इस बार रक्षाबंधन 11 अगस्त को भद्रा सुबह 10:30 से रात 8:52 तक रहेगी शास्त्रों के अनुसार भद्रा में राखी नहीं बांधी जाती इसलिए बहनें  अपने भाइयों को 11 अगस्त रात 8:52 बजे के बाद राखी बांध सकेगी राखी बांधने के लिए सबसे उत्तम समय 11 अगस्त रात 8:53 से 9:15 तक रहेगाइसमें प्रदोष काल के साथ-साथ श्रेष्ठ चौघड़िया भी विद्यामान रहेंगे. चार की चौघड़िया में भी बहनें अपने भाइयों को राखी बांध सकेंगी  भद्रा के बाद चार की चौघड़िया रात 8:52 से 9:48 बजे तक होगी