Movie prime
6 जुलाई को सूर्य के इस नक्षत्र में जाने से बन रहे है बारिश के तगड़े योग ,पूरी और खीर का भोग लगाने से मिलेगी कष्टों से मुक्ति
 

22 जून बुधवार का आषाढ़ मास के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि पर सूर्य आद्रा नक्षत्र में प्रवेश करेगा इसलिए नक्षत्र 6 जुलाई तक रहेगा इन 15 दिनों में आषाढ़ महीने का कृष्ण और शुक्ल पक्ष रहेगा बुध की राशि में सूर्य होने और बुधवार को  ही नक्षत्र परिवर्तन होने से इस बारिश से किसानों और खेती से जुड़ी बिजनेस करने वालों के लिए समय अच्छा रहेगा। 

ty

ग्रंथों में कहा गया है कि जब सूर्य आद्रा नक्षत्र में प्रवेश करता है तो धरती रजस्वला  होती हैा यानी की  बीज बोने का सही समय होता है आद्रा नक्षत्र के देवता रुद्र है जो की आंधी और तूफान के स्वामी है जानकारी के अनुसार  भगवान शिव का स्वरूप है इस नक्षत्र का स्वामी राहु है जो कि पृथ्वी का उत्तरी ध्रुव भी है इस नक्षत्र में जानवरों के लिए जुड़े काम किए जाते हैं यह ध्रुव मुख्य नक्षत्र है यही नहीं  इस नक्षत्र में ऊपर की ओर गति करने वाले काम किए जाते हैं इसलिए जब सूर्य ग्रह नक्षत्र में होता है तभी बीज बोए जाते हैं और खेती की शुरुआत होती है। 

ty

इसीलिए ज्योतिषियों का कहना है कि आद्रा नक्षत्र में सूर्य के आने से बारिश का मौसम शुरू हो जाता है सूर्य आद्रा  नक्षत्र में आने पर खीर पूरी और कई तरह के पकवान बनाकर उगते हुए सूरज को अध्र्य देकर सूर्य का स्वागत करते हैं कहते हैं कि इस परंपरा से बीमारियां दूर होती है और उम्र भी बढ़ती है ज्योतिष के अनुसार आद्रा  नक्षत्र पर राहु का विशेष प्रभाव रहता है जो की मिथुन राशि में है जब सूर्य इस नक्षत्र में आता है तब पृथ्वी रजस्वला होती है ये नक्षत्र उत्तर दिशा का स्वामी है इसे खेती के कामों में मददगार माना जाता है।