Movie prime
खड़े होकर या बैठकर किस तरह से करनी चाहिए पूजा ,यहां जाने
 

हिंदू धर्म में पूजा पाठ का काफी महत्व होता है। लेकिन पूजा पाठ करते समय कुछ नियमों का ध्यान रखना होता है तभी पूजा को पूरा माना जाता है। जाने अनजाने में लोग पूजा के दौरान कई गलतियां कर देते हैं जिसके कारण उन्हें पूजा का पूरा फल नहीं मिलता और पूजा अधूरी रह जाती है। यदि आप गलत विधि ,या  ,नियमों के साथ पूजा करते हैं तो यह दुर्भाग्य का भी कारण बनती है। इसलिए पूजा के लिए इन जरूरी बातों का ध्यान रखें। 

pooja

 स्त्री हो या पुरुष पूजा करते समय हमेशा सिर्फ दुपट्टे या फिर रुमाल से ढक के रखे  

पौराणिक शास्त्रों के अनुसार खड़े  होकर पूजा करना सही नहीं माना जाता है इस तरह करने पर कोई फल नहीं मिलता। घर पर पूजा करते समय खड़े होकर पूजा ना करें ना ही सीधे जमीन पर बैठकर पूजा करे ,पूजा करने से पहले आसन बिछाये और आसन पर बैठकर ही पूजा करें इसके साथ बिना सिर ढके  भी पूजा नहीं करनी चाहिए। स्त्री हो या पुरुष पूजा करते समय हमेशा सिर्फ दुपट्टे या फिर रुमाल से ढक के रखे  ।सर ढके  बिना पूजा करने से सारा लाभ और पुण्य  आकाश में चला जाता है। 

pooja

पूजा एक ऐसी प्रणाली है जो हमें कुछ समय के लिए सांसारिक मोह माया से हटा कर एक आध्यात्मिक संसार में पहुंच जाती है

मान्यता है कि जहां हम पूजा कर रहे हैं उस स्थान का फर्श  मंदिर के फर्श से ऊपर नहीं होना चाहिए।  पूजा एक ऐसी प्रणाली है जो हमें कुछ समय के लिए सांसारिक मोह माया से हटा कर एक आध्यात्मिक संसार में पहुंच जाती है। जहां हमें शांति सद्भावना और पवित्रता का आभास होता है ऐसे में पूजा अर्चना करते समय नियम और पवित्रता का ध्यान रखें। पूजा करते समय हमेशा पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठे हैं और अपने दाहिने और घंटी ,धूप ,दीप ,पूजा करते समय और पूजन सामग्री चाहिए। पूजा करते समय इस तरह से पूजा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है। साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखें कि जो भी व्यक्ति पूजा में बैठे हैं उसके माथे पर तिलक जरूर लगा हुआ हो।