Movie prime
8 अगस्त को इस तरह से करे पुत्रदा एकादशी ,भगवान विष्णु की कृपा से होगी उत्तम संतान की प्राप्ति
 

सावन  की दूसरी एकादशी का पुत्रदा एकादशी कहते हैं क्योंकि पुराणों के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु की पूजा के साथ व्रत रखने से संतान सुख मिलता है ये व्रत साल में दो बार रखा  जाता है हिंदू कैलेंडर के अनुसार पहले पुत्रदा एकादशी सावन मास के शुक्ल पक्ष में आती है जो 8 अगस्त सोमवार को है वह दूसरी पौष माह के शुक्ल पक्ष में आती है। 

putr

सावन मास में भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है इसलिए व्रत और  भी खास हो गया है ऐसे लोग जो संतान सुख की कामना रखते हैं उन्हें ये व्रत जरूर करना चाहिए इस व्रत को  करने से भगवान विष्णु के विशेष कृपा से उत्तम संतान की प्राप्ति होती है साथ ही भगवान विष्णु का आशीर्वाद भी बना रहता है। 

putr

दशमी तिथि से एकादशी व्रत के नियम पर चलने की मान्यता है व्रत  से एक दिन पहले ही सात्विक भोजन करें एकादशी पर सुबह जल्दी उठकर स्नान करके स्वच्छ  वस्त्र पहनकर घर के मंदिर में दीपक जलाए व्रत का संकल्प लें पूजा में धूप दीप फुल फूल-माला, अक्षत, रोली और नैवेद्य समेत 16 सामग्रियां भगवान को अर्पित करें भगवान विष्णु की पूजा में तुलसी दल जरूर अर्पित करें इसके बिना उनकी हर पूजा अधूरी मानी जाती है। 

putrda

इसके बाद पुत्रदा एकादशी की व्रत कथा पढ़ें और आरती करें एकादशी पर भगवान विष्णु का स्मरण  करते हुए किसी पवित्र नदी सरोवर में  में अन्यथा तुलसी या पीपल के वृक्ष के नीचे दीपदान का भी महत्व है  दीपदान  में दान करने के लिए आटे की छोटे -छोटे  पतली सी रुई की बत्ती जलाकर उसे पीपल या बढ़ के पत्ते पर रखकर नदी में प्रवाहित किया जाता है साथ ही जरूरतमंदों को सामर्थ्य के अनुसार दान करना चाहिए।