Movie prime
OMG :करोड़ो एंड्रॉयड स्मार्ट फोन की स्क्योरिटी पड़ी खतरे में ,इस तरह फंसा रहे है यूजर्स को
 

एंड्रॉयड स्मार्टफोन जब से आया  है तब से किसी ना किसी  सिक्योरिटी खतरे का सामना करना पड़ता है और अब एक और नई दिक्क्त का पता चला है  आपको बता दें कि ज्यादातर स्मार्टफोन क्वालकॉम और मीडियाटेक चिपसेट  पर काम करते हैं रिपोर्ट के अनुसार फोन के ऑडियो फॉर्मेट के सिक्योरिटी में खामी की वजह से करीब 67 परसेंट एंड्रॉयड स्मार्टफोन सिक्योरिटी अटैक के खतरे में थे। 

io

इस हफ्ते चेचेक प्वाइंट रिसर्च के रिसर्चर्स इस बात की जानकारी दी है कि पिछले साल एक पेज के साथ इसे ठीक कर दिया गया था लेकिन लाखों एंड्रॉयड स्मार्टफोन अभी भी परेशानी का शिकार हो सकते थे जिससे यूजर्स को खतरा हो सकता था  शोधकर्ताओं ने एप्पल लॉसलैस ऑऑडियो कोडेक या एएलएसी के  माध्यम से परेशानी की खोज की एप्पल लेनॉन एप्पल डिवाइस को स्ट्रीमिंग के लिए प्रभावित म्यूजिक क्वालिटी के लिए ओपन दिया चेकप्वाइंट रिसर्च के लोगों ने बताया एएलएसी फाइल में खामियों का इस्तेमाल करके हमलावर डिवाइस पर रिमोट कोड एग्जीक्यूशन अटैक कर सकते हैं इस तरह अटेक  हमलावर को आपके स्मार्टफोन के कैमरे तक पहुंचने में सक्षम बनाता है और यहां तक किसी भी मीडिया फाइल को मैलवेयर से संक्रमित कर सकता है और आगे के लिए भी खतरे का रास्ता बन सकता है। 

io

चेकप्वाइंट रिसर्चर्स ने कहा है किमीडियाटेक और क्वालकॉम से लैस  स्मार्टफोन में किसी तरह ALAC भेद्यता को अपनी ऑडियो रिकॉर्डर में पोर्ट किया सुरक्षा मुद्दे की खोज स्लाव मक्कावीव ने नेतनेल बेन साइमन के साथ की, जिन्होंने बताया कि खतरा गंभीर था और हमलावरों को आसानी से प्रभावित स्मार्टफोन पर सभी को देखने की अनुमति देता है बताया गया कि खामियों को आसानी से फायदा उठाया जा सकता था एक धमकी देने वाला ट्रेकर  एक गाना भेज सकता था और जब एक संभावित विधि द्वारा बजाया जाता था तो वह विशेषाधिकार प्राप्त मीडिया सेवा में कोड इंजेक्ट कर सकता था. धमकी देने वाला वही देख सकता था जो मोबाइल फोन यूज़र अपने फोन पर देखता है. चेकप्वाइंट रिसर्च ने मीडिया टेक और क्वालकॉम को खाने के बारे में सभी डिटेल भेजी थी जिन्होंने पिछले साल दिसंबर में अपनी सुरक्षा संबंधित सुरक्षा पेज के साथ समस्या को ठीक करने के लिए कदम उठाया था।