Movie prime
अगर ज्यादा देर तक करते है फोन पर बात तो हो जाये सतर्क ,हो सकती है ये जानलेवा बीमारी
 

  आज शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो स्मार्टफोन का इस्तेमाल नहीं करता होगा काम हो या एंटरटेमेंट हमें अपने ज्यादातर मोबाइल फोन पर निर्भर रहते हैं इसलिए फोन के बिना 1 मिनट भी गुजारना मुश्किल लगता है अगर आप भी स्मार्ट फोन यूजर है   तमाम कामों के लिए इस डिवाइस का इस्तेमाल करते हैं तो सतर्क रहने की जरूरत है हमारे पास आपके लिए कुछ बेहद जरूरी टिप्स जिनको आपको जरूर ध्यान में रखना चाहिए की  स्मार्टफोन इस्तेमाल करते समय आप अगर टिप्स कोफॉलो  नहीं करेंगे तो आपको कैंसर और ट्यूमर जैसी खतरनाक बीमारियां हो सकती है। 

phon

इस बात से तो शायद कोई भी अनजान नहीं  होगा कि स्मार्टफोन से खतरनाक विकिरण निकलती है जो इंसानों के लिए काफी खतरनाक और कई बार घातक भी साबित होती है स्मार्टफोंस के इस्तेमाल पर एक तरह का  रेडियो फ्रिकवेंसी रेडिएशन निकलती है जिसका हमारे शरीर और दिमाग दोनों पर बुरा असर पड़ता है मोबाइल से निकलने वाली रेडियंस इंसान के ब्रेन ट्यूमर  होने  के चांसेस को 40 प्रतिशत बढ़ा देते हैं आइए जानते हैं वह कौन सी चीज है जिनका ध्यान आप को स्मार्ट फोन यूज़ करते समय रखना चाहिए। 

phone

  स्मार्टफोन कई सारी पिक्चर्स और सुविधाओं के साथ आता है लेकिन मुख्य रूप से फोन का इस्तेमाल कॉल पर बात करने के लिए किया जाता है आपको बता दें कि सबसे पहले कोशिश करें कि आप एक बार में ज्यादा देर तक फोन पर बात ना करें क्योंकि देर तक कॉल पर रहने से  रेडियंस  काफी बढ़ जाते हैं  और  कोशिश करें की  फोन पर अगर आपको बात लंबी करनी है और स्पीकर पर करके फोन अपने शरीर के साथ डायरेक्ट कांटेक्ट में कम रखे क्योंकि हर 30 सेकेंड पर फोन से हीट रेडिएशन निकलते हैं और ये आपके शरीर के प्रमुख ऑर्गन्स को खराब कर सकते हैं। 

phone

 हम जहां जहां जाते हैं हमारे  स्मार्टफोन आमतौर पर हमारे साथ ही होता है लेकिन कुछ ऐसे स्थान हैं जहां आप फोन इस्तेमाल नहीं करना चाहिए अगर आप किसी बस, गाड़ी, ट्रेन आदि में है और वो वाहन चल रहा है तो फोन को सिर्फ तभी इस्तेमाल करें जब जरूरी हो. ऐसा इसलिए क्योंकि इस समय सिग्नल के लिए फोन ज्यादा एक्टिव होता है और इस वजह से रेडिएशन भी ज्यादा होते हैं इतना ही नहीं अगर आप कही पार्क हुयी है और आसपास में बैठे है तब भी स्मार्ट फोन का यूज करना खतरनाक साबित हो सकता है  आस-पास की गाड़ियों और आपकी गाड़ी से निकल रही हीट की वजह से फोन के बैटरी रेडिएशन्स काफी बढ़ जाते हैं और इस तरह रेडियो फ्रीक्वेन्सी रेडिएशन्स भी मैग्नफाइ हो जाते हैं। 

 हम में  से ज्यादातर  लोगों की आदत होती है कि वह अपना स्मार्ट फोन यूज़ करते हैं और सो जाते हैं इसलिए फोन हमारे पास तकिए के पास रहता है आपको बता दें कि  एक स्मार्टफोन से निकलने वाले रेडिएशन्स और तमाम इलेक्ट्रोमैग्नेटिक फील्ड्स (EMF) स्लीप साइकिल को खराब कर सकते हैं, घबराहट (Palpitations) बढ़ा सकते हैं, मांसपेशियों में दर्द (Muscle Pain) का कारण बन सकते हैं और आपको कमजोरी भी महसूस हो सकती है  इसका असर आपके इम्यून सिस्टम पर भी पड़ सकता है इसलिए सोने से पहले अपने स्मार्टफोन को अपने से दूर, बिस्तर से दूर रखें।