Movie prime
ऑस्ट्रेलिया में भारतीय टीम के लिए बाउंस है सबसे बड़ी दिक्क्त ,लेकिन क्यों नहीं है टीम इंडिया को टेंशन
 

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मंगलवार से महोली में तीन टी-20 मैचों की सीरीज शुरू हो रही है इसके बाद भारतीय टीम भारत में ही साउथ अफ्रीका की खेल तीन वनडे मैचों की सीरीज खेलने वाली है कहा जा रहा है कि बीसीसीआई ने इन सभी मैचों का आयोजन इसलिए किया है ताकि भारतीय टीम को अगले महीने ऑस्ट्रेलिया में होने वाले T20 वर्ल्ड कप से पहले अच्छी प्रैक्टिस मिल सके।

ostre 

लेकिन सबसे बड़ा सवाल सामने आता है कि ऑस्ट्रेलिया की कंडीशन भारतीय परिस्थितियों से बिल्कुल अलग है वहां की पिचों से गेंदबाजों को अधिक बाउंस मिलता है वहीं भारत में बहुत अधिक एफर्ट डालने के बाद गेंद उछाल लेती है फिर भारत की पिच पर खेलकर वर्ल्ड कप प्रैक्टिस कैसे मिल सकती है भारतीय टीम की नजरें इस समय कंडीशन से ज्यादा टीम कॉन्बिनेशन पर है एशिया कप में भारतीय टीम फाइनल में नहीं पहुंच सकी इसकी सबसे बड़ी वजह सामने आएगी टीम के थिंक टैंक को अब तक यह पता नहीं चला है कि बेस्ट कंबीनेशन क्या है और किस से अपनी कराई जाए और किस किसे मिडिल ऑर्डर नंबरइसकी सबसे बड़ी वजह सामने आई है कि कि थिंकटैंक अभी तक पता ही नहीं चला है कि बेस्ट कॉम्बिनेशन  क्या है और किस से ओपनिंग कराई जाए और मिडिल ऑर्डर पर किस नंबर पर किसे भेजे जाए रोहित शर्मा की कप्तानी वाली टीम ऑस्ट्रेलिया और साउथ अफ्रीका के खिलाफ सीरीज के जरिए अपना बेस्ट कॉन्बिनेशन जानना चाहती है। 

ostre

यही वजह है कि भारत ने इन दोनों सीरीज के लिए लगभग वही टीम सिलेक्ट की है जो वर्ल्ड कप खेलने ऑस्ट्रेलिया जाएगी वर्ल्ड कप की प्रैक्टिस मैच खेल खेलने की वजह है कि बल्लेबाजी के अनुकूल ही होती है ऑस्ट्रेलिया में बाउंस ज्यादा होता है लेकिन स्थिति ऐसी भी नहीं होगी कि एशियाई बल्लेबाज ठीक से खेल ही न पाएं। वैसे भी वर्ल्ड कप के दौरान पिच कैसी हो यह मेजबान देश नहीं बल्कि ICC को तय करना होता है लिहाजा ऑस्ट्रेलिया चाह कर भी ऐसी पिच नहीं बना सकता जहां भारत सहित एशिया के तमाम देशों को बल्लेबाजों को परेशानी हो भारतीय बल्लेबाजों ने भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज जीतने में सफलता हासिल की है। 

ostre

इसके अलावा वनडे और टी-20 क्रिकेट में भी पिछले कुछ सालों में भारत का ऑस्ट्रेलिया में प्रदर्शन अच्छा रहा है क्या आप जानते हैं भारत और ऑस्ट्रेलिया मैच में होने वाले मैचों में क्या अलग होता है भारत में अब तक 111 T20 इंटरनेशनल मैच खेले गए हैं इनमें औसतन 8 पॉइंट 15 रन प्रति ओवर की दर से रन बनते हैं वहीं ऑस्ट्रेलिया में अब तक 54 T20 इंटरनेशनल मैच खेले गए हैं वहां 7 पॉइंट 93 रन प्रति ओवर की दर से बनते हैं भारत में होने वाले मैचों में उनका किरदार काफी कम होता है रात में ओस गिरने की वजह से गेंद गीली हो जाती है और ग्रुप करना मुश्किल होता है ऑस्ट्रेलिया में उसकी ज्यादा समस्या नहीं है इसलिए वहां पूरे 40 ओवर एक जैसे कंडीशन में बने रहते है।