Movie prime
बीसीसीआई है कमाई के मामले में सबसे ऊपर ,पाकिस्तान को भी होती है इससे जलन
 

आप तो जानते हैं कि बीसीसीआई दुनिया का सबसे धनी क्रिकेटर बोर्ड है। टीम इंडिया का हालिया प्रदर्शन जैसा भी रहा हो लेकिन बड़ी-बड़ी कंपनियां टीम इंडिया से जुड़ने के लिए बेकरार रहती है। हालिया सालों में बोर्ड  पर इतना ज्यादा पैसा बरसा है कि बाकी बोर्डो को बीसीसीआई से जलन होने लगी  है खासतौर से पाकिस्तान जिसे बीसीसीआई की आमदनी बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगती।

bbci 

खासकर इस साल टीवी अधिकारों की बिक्री के बाद तो यह काफी धमाकेदार होते हुए ऊपर चली गई। बहरहाल आप जानिए कि पिछले कुछ साल बीसीसीआई सहित बाकी देशों के बोर्डो  की मिलाकर 1 साल के भीतर कितनी कमाई हुई है। 

bcci

10 देशों में सबसे फिसड्डी श्रीलंका बोर्ड रहा जिसका साल 2021 में करीब सौ करोड़ भारतीय रुपए रहा  तो जिम्बाब्वे  की सालाना कमाई 113 करोड रुपए रही

10 देशों में सबसे फिसड्डी श्रीलंका बोर्ड रहा जिसका साल 2021 में करीब सौ करोड़ भारतीय रुपए रहा  तो जिम्बाब्वे  की सालाना कमाई 113 करोड रुपए रही। विंडीज बोर्ड आठवें नंबर पर उसने साल 2021 में  116 करोड रुपए कमाए ,वहीं न्यूजीलैंड इस मामले में इन देशों से थोड़ा आगे रहा उसने साल भर में 210 करोड रुपए कमाए। दक्षिण अफ्रीका बोर्ड की साल 2021 में सालाना कमाई 485 करोड रुपए रही। लेकिन बांग्लादेश ने 802 करोड रुपए की कमाई करके सबको हैरान कर दिया। अब यह बताता है कि बांग्लादेश की क्रिकेट आर्थिक स्थति बाकी देशों से कितनी अच्छी है और वह चौथे नंबर पर वही पाकिस्तान की कमाई 811 करोड रुपए रही। 

bcci

अगर भारतीय क्रिकेट का हाल टी20 विश्व कप जैसा ही रहा और इंग्लैंड का दबदबा यूं ही बढ़ता रहा,

लेकिन दुनिया के तीन शीर्ष क्यों बिग थ्री हैं आईसीसी समूह में, यह उनकी सालाना कमाई ही तय करती है। सिर्फ तीन देशों में भले ही बीसीसीआई बिग बॉस हो ,लेकिन दूसरे नंबर पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया  (2843 करोड़),और इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड (2135 करोड़) करोड़ रुपए के साथ  खास पीछे है , लेकिन अगर भारतीय क्रिकेट का हाल टी20 विश्व कप जैसा ही रहा और इंग्लैंड का दबदबा यूं ही बढ़ता रहा, तो हैरानी की बात नहीं होगी कि अगर ईसीबी की सालाना कमाई बीसीसीआई के और नजदीक पहुंच जाता है. इसके बावजूद बीसीसीआई साल 2021 में तीन हजार सात सौ तीस करोड़ का रिवेन्यू जुटाकर दस देशों में सबसे पहले नंबर पर रहा, जो बताता है कि क्रिकेट की दुनिया का अमेरिका क्यों है।