Movie prime
बच्चे के लिए माँ का दूध का बन सकता है जहर ,यहां जाने किस स्थति में स्तनपान करवाना बन सकता है जानलेवा
 

बच्चो को ब्रेस्टफीडिंग कराना बहुत जरूरी है यह आपके बच्चे के लिए सम्पूर्ण आहार  होता है बच्चे के जन्म से लेकर 6 महीने तक डॉक्टर सिर्फ मां का दूध पिलाने की सलाह देते हैं उन्हें पानी पिलाने से भी मना करते हैं अगर आपका बेबी बेबी प्रीमेच्योर हुआ है तब तो उसे ब्रेस्ट फीडिंग  कराना और भी ज्यादा जरूरी होता है क्योंकि मां के दूध में पोषक तत्व होते हैं कुछ ऐसी परिस्थिति है जहां कुछ निश्चित दवाओं का सेवन कर रही अन्य कारणों से मां को स्तनपान नहीं करा ना चाहिए। 
brest

 अगर माँ ब्रुसोलिस  से पीड़ित है उसका इलाज नहीं चल रहा है उचित इलाज के बाद ब्रेस्टफीडिंग  शुरू कर सकती है यही नहीं गर्भावस्था को रोकने या समाप्त करने के लिए वहां कुछ दवाई ले रही है   गर्भावस्था को समाप्त करने के लिए उपयोग की जाने वाली कुछ दवाइयों में हार्मोनल गुण होते हैं और इन दवाओं को लेने वाली मां के लिए स्तनपान कराना वर्जित है। 

bresj

कुछ मामले माताओं के प्रत्यक्ष स्तनपान की अनुमति नहीं दी जाती है लेकिन स्तन  का दूध निकालकर शिशु को पिला सकती है ऐसी स्थिति में प्रसव के 5 दिन पहले प्रसव के 2 दिन बाद मां को यदि  हर्पीज ज़ोस्टर या वैरीसेला  संक्रमण हो जाता है तो मां बच्चे को सीधा स्तनपान नहीं करा सकती स्तन से दूध निकालकर पिला सकती है। 

bresj

माँ को यदि को एक्टिव तपेदिक है और इसका इलाज नहीं हुआ है मां 2 सप्ताह के उचित उपचार के बाद और जब यह पुष्टि हो चुकी है कि रोग संक्रामक नहीं है तब स्तनपान फिर से शुरू कर सकती है मां को रेडियोपैक पदार्थ लगाकर डायग्नोस्टिक इमेजिंग किया गया है। एक बार शरीर से डाई पूरी तरह से निकलने के बाद ही मां स्तनपान फिर से शुरू कर सकती है।