Movie prime
हेल्दी समझकर जिन ब्राउन राईस का आप करते है बेफिक्र होकर इस्तेमाल ,यहां जाने उनके साइड इफेक्ट
 

ब्राउन राईस को नियमित चावल  के लिए एक स्वस्थ विकल्प के रूप में देखा जाता है इसका मुख्य कारण इसे  संशोधित करने का तरीका जब चावल प्रोसैस्ड हो जाता है तो चोकर और गुड बैक्टीरिया हटा दिए जाते हैं जबकि ब्राउन चावल में सब बना रहता है चोकर और  गुड बैक्टीरिया को पौष्टिक गुणों के लिए जाना जाता है और फाइबर से भरपूर होते हैं इसलिए ब्राउन राईस स्वस्थ विकल्प के रूप में सामने आता है और कई स्वास्थ्य लाभों से जुड़े रहते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं इसके कुछ नुकशान भी होते हैं। 

brau

एनसीबीआई के रिसर्च के अनुसार ब्राउन राइस खाने का एक बड़ा साइड इफेक्ट है इसमें मौजूदफाइटिक एसिड नामक एंटी-न्यूट्रीएंट बड़ी मात्रा में पाया जाना यह एंटी न्यूट्रिएंट तत्व एक ऐसा  कम्पोजिशन है जो कई अलग-अलग पोधो से बने उत्पादों में पाया जाता है और हमारे शरीर को खाद्य पदार्थों से मिलने वाले कुछ पोषक तत्व प्राप्त करने से रोक सकता है। 

braun

 ज्यादा फाइबर का इस्तेमाल आपके पाचन के लिए सही नहीं है  और समस्याएं पैदा कर सकते हैं ब्राउन राइस में चोकर   वरोगाणु  बरकरार होते हैं वह जो इसी फाइबर रिच बनाने के लिए जिम्मेदार हैं  चोकर  और रोगाणु पाचन तंत्र को भी डिस्टर्ब कर सकते हैं जिससे पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती है। 

brown
ज्यादातर  अनाज आर्सेनिक  के संपर्क में आते हैं जो मिट्टी और पानी में पाया जाने वाला एक तत्व है और जब इसके संपर्क में आते हैं तो आप गंभीर स्थिति से पीड़ित हो सकते हैं ब्राउन राइस में अधिकांश अन्य अनाजों की तुलना में अधिक आर्सेनिक  होता है इसलिए परिस्थितियों से प्रभावित होने का खतरा बढ़ जाता है आर्सेनिक की थोड़ी मात्रा भी की थोड़ी मात्रा भी कैंसर, हृदय रोग और टाइप 2 मधुमेह के खतरे को बढ़ा सकती है।