Movie prime

आज होगी दुनिया सबसे ताकतवर रॉकेट की लॉन्चिंग ,पहले लॉन्च में हो गयी थी ये गड़बड़ी

 

दुनिया का सबसे पावरफुल लॉन्च व्हीकल स्टारशिप अपने पहले ऑर्बिटल  टेस्ट के लिए तैयार है। इसलिए आज यानि गुरुवार को शाम 7:00 बजे तक टेक्सास के बोका चिका से लॉन्च किया जाएगा। यह  स्टारशिप के ऑर्बिटल  लॉन्च का दूसरा अटेम्प्ट  है।  सोमवार को पहले अटेम्प्ट में प्रेशर वाल्व के फ्रिज होने के कारण लॉन्च को 39 सेकंड पहले रोक दिया गया था। स्टील लेस स्टील से बने स्टार शिप को दुनिया के दूसरे सबसे अमीर कारोबारी एलन मस्क  कंपनी स्पेसएक्स ने  बनाया है। 

लॉन्च्ड के टाइम में बदलाव भी हो सकता है 

स्पेसएक्स की यूट्यूब चैनल पर लांच को लाइव स्ट्रीम किया जाएगा। स्ट्रीमिंग लॉन्च की 45 मिनट पहले यानी शाम को 6:15 बजे शुरू होगी। लॉन्च्ड के टाइम में बदलाव भी हो सकता है। क्योंकि स्पेसएक्स के पास 62 मिनट के लॉन्च विंडो  है। यह लॉन्चिंग इसलिए खास है क्योंकि स्पेसशिप इंसानों को इंटरप्लेनेटरी बनाएगा यानी इसकी मदद से पहली बार कोई इंसान पृथ्वी के अलावा किसी दूसरे ग्रह पर कदम रखेगा। मस्क साल 2029 तक इंसानों को मंगल का मंगल ग्रह पर पहुंचा करवा कॉलोनी बसाना चाहते हैं। 

स्पेसशिप इंसानों की दुनिया के किसी भी एक कोने में 1 घंटे से कम समय में पहुंचाने में सक्षम होगा।  स्पेशिप के लॉन्च एलन मस्क के मंगल ग्रह पर उनके शहर बसाने के सपने को और करीब ले जाएगी। हालांकि मस्क ने हाल ही में कहा था कि स्टार्ट शिप के पहले वह ऑर्बिटल मिशन के सफल होने की संभावना केवल 50 परसेंट है लेकिन उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि स्पेसएक्स साउथ टैक्सास साइट पर कई स्टारशिप व्हीकल बना रहा है इन्हें आने वाले महीनों में जल्दी-जल्दी लांच किया जाएगा और लगभग 80 परसेंट संभावना है कि उनमें से एक इस साल ऑर्बिट  में पहुंच जाएगा। 


दुनिया का सबसे पावरफुल व्हीकल


स्टारशिप अब तक का डेवलप दुनिया का सबसे पावरफुल लॉन्च व्हीकल है। ये पूरी तरह से रियूजेबल है और 150 मीट्रिक टन भार ले जाने में सक्षम है। स्टारशिप सिस्टम 100 लोगों को एक साथ मंगल ग्रह पर ले जाएगा। मस्क 10 अप्रैल को ही स्टारशिप को लॉन्च करना चाहते थे, लेकिन तब US फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन यानी FAA से अप्रूवल नहीं मिल पाया था।


फ्यूचर में मंगल ग्रह पर कैसे पहुंचेगा स्टारशिप?


स्टारशिप स्पेसक्राफ्ट और सुपर हैवी रॉकेट मिलकर रियूजेबल ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम बनाते हैं जो ऑर्बिट में रिफ्यूलिंग करने में सक्षम है। ये सिस्टम मार्स की सरफेस पर मौजूद नेचुरल H2o और Co2 के रिसोर्सेज से खुद को रिफ्यूल भी कर सकता है। इंसानों पर मंगल ग्रह पर भेजने की बात करें तो सुपर हैवी बूस्टर के साथ स्टारशिप को लॉन्च किया जाएगा। इसके बाद बूस्टर अलग हो जाएगा और पृथ्वी पर लौट आएगा।