Movie prime

Deepak Boxer Arrested: यहां जाने कौन है दीपक बॉक्सर ,जिसे पुलिस ने केंद्र सरकार की मदद से किया यहां से अरेस्ट

 

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल सात समंदर पार से गिरफ्तार करके कुख्यात गैंगस्टर  दीपक बॉक्सर को दिल्ली ले आई है। दिल्ली पुलिस की इस कामयाबी में केंद्र की मोदी सरकार ने काफी अहम भूमिका निभाई।  इस कुख्यात और भगोड़े बदमाश को विदेश मंत्रालय के प्रयासों की वजह से जल्दी पहुंचने में कामयाबी मिली है। सूत्रों के मुताबिक दीपक की गिरफ्तारी का पूरा ऑपरेशन अमेरिका की खुफिया एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन की मदद से अंजाम दिया गया है। 

दीपक बॉक्सर को विदेश भगाने में लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग ने भूमिका निभाई थी

आपको बता दें बॉक्सर को लेकर दिल्ली पहुंची फ्लाइट कल सुबह 4:40 बजे दिल्ली लैंड कर चुकी है। दीपक बॉक्सर  दिल्ली पुलिस की मोस्ट वांटेड लिस्ट में टॉप पर था। वह दिल्ली की सिविल लाइंस में एक बिल्डर की हत्या सहित कई मामलों में फरार चल रहा था। दीपक बॉक्सर इन दिनों को ध्यान तो गोगी गैंग की कमान संभाल रहा था। गोगी की हत्या के बाद वही गेंग लीड कर रहा था और उसने लॉरेंस बिश्नोई गैंग से भी हाथ मिला लिया था। सूत्रों का कहना है कि दीपक बॉक्सर को विदेश भगाने में लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ गैंग ने भूमिका निभाई थी। दीपक बॉक्सर के ऊपर दिल्ली पुलिस ने ₹300000 के घोषित इनाम रखा रखा था।

 इस ऑपरेशन को मेक्सिको पुलिस और एफबीआई के सहयोग से अंजाम दिया गया  

कुछ वक्त पहले ही खबर आई थी कि दीपक गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ की मदद से विदेश भागा है। रिपोर्ट के मुताबिक विश्नोई चाहता था कि दीपक बाहर रहकर गैंग का कामकाज संभाले।  27 साल का दीपक विदेश से ही रंगदारी मांग रहा था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक मार्च के आखिरी हफ्ते में जैसे ही पता चला कि दीपक बॉक्सर फर्जी पासपोर्ट के सहारे विदेश भाग गया था उसकी जानकारी जताई गई । इस दौरान पता चला कि बॉक्सर रवि अंतिल के नाम से बने एक फर्जी पासपोर्ट पर फरार हुआ था।  करीब 1 हफ्ते तक बॉक्सर के सभी पुराने साथियों गुर्गे और आपराधिक सहयोगीयों के साथ निकट संबंधियों से गहन पूछताछ की गई।  सभी को एक साथ सर्विलांस पर रखा गया तभी पता चला कि वह मेक्सिको में है। दिल्ली पुलिस ने उसे दबोचने के लिए विदेश मंत्रालय के जरिए मेक्सिको और अमरीकी एजेंसियों के सहयोग लिया तो उसकी लोकेशन  कैनकुन सिटी में मिली मेक्सिको का ये इलाका मानव तस्करों के अड्डे और ड्रग्स डीलिंग के लिए बदनाम है. बॉक्सर यहां से अमेरिका भागने वाला था।  जहां से उसे भारत लाना आसान नहीं होता।  इसलिए इस ऑपरेशन को मेक्सिको पुलिस और एफबीआई के सहयोग से अंजाम दिया गया।