Movie prime
यूपी पुलिस ने पकड़ी 10 करोड़ की कीमत की व्हेल की उल्टी , यहां जाने क्यों है व्हेल की उल्टी
 

उत्तर प्रदेश पुलिस स्पेशल टास्क ने  ट्विटर में बताया कि  एम्बरग्रीस  की तस्करी करने वाले यानी कि व्हेल की उल्टी की तस्करी करने वाले गिरोह के चार सदस्यों को लखनऊ में छापेमारी के बाद अरेस्ट किया गया है छापेमारी के दौरान उनके पास 4 पॉइंट 12 किलोग्राम व्हेल मछली की उल्टी मिली जिसकी कीमत ₹100000000 बताई जा रही है व्हेल मछली उल्टी  जिसे एम्बरग्रीस  के नाम से भी जाना जाता है 1970 का वन्य जीव अधिनियम  व्हेल उल्टी की बिक्री पर रोक लगाता है जो इत्र के लिए काफी मांगने वाला घटक माना जाता है। 

wheal

UPSTF ने   गिरफ्तारी के बारे में ट्वीट किया इसमें लिखा कि"05.09.2022 को वन्य जीव संरक्षण अधिनियम के तहत प्रतिबंधित लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन एरिया से ₹100000000 मूल्य के साथ गिरफ्तार किया गया स्पर्म व्हेल उल्टी निकालती है जिसेजिसे "ग्रे एम्बर" और "फ्लोटिंग गोल्ड" के   नाम से जाना जाता है जिससे अक्सर दुनिया की सबसे अजीब प्राकृतिक घटनाओं में से एक के रूप में जाना जाता है इस फ्लोटिंग गोल्ड के लिए गिरोह के सदस्यों की गिरफ्तारी कोई असामान्य घटना नहीं है इस साल अवैध रूप से एवरग्रीन्स बेचने के आरोप में कई लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। 

whael

 ठोस ,मोमी  पदार्थ की अक्सर तस्करी होती है क्योंकि यह सोने से भी ज्यादा महंगा है इस साल जुलाई में केरल में मछुआरों के एक समूह द्वारा कथित तौर पर ₹280000000 की व्हेल की उल्टी पाई गई और इससे स्थानीय अधिकारियों को सौंप दिया गया खबर वायरल होने के बाद उन्हें इसके लिए काफी तारीफें भी मिली थी एम्बरग्रीन्स व्हेल  के पाचन तंत्र में उत्पन्न होता है यह व्हेल के आंतो  में बनने वाली मॉमी ,ठोस और ज्वलनशील पदार्थ है जिसका उपयोग सौंदर्य प्रसाधन और दवाओं में किया जाता है प्राचीन काल में अंबर गिरीश का उपयोग सुगंध और उच्च स्तर के इत्र के साथ-साथ विभिन्न पारंपरिक दवाओं में किया जाता है इसी वजह से इसकी कीमत बहुत अधिक है।