Movie prime

शख्स ने किये बैंक में आये 6 करोड़ रूपये गलती से ,खर्च करने पर मिली ये सजा ,आप भी ना करे ये गलती

 

कई बार ऐसा होता है कि हम अपने पैसे  दूसरे अकाउंट से गलती में ट्रांसफर कर देते हैं लेकिन क्या हो जब करोड़ों रुपए किसी अनजान शख्स के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाए और मैं उससे पैसे को उड़ा दे  ऐसा ही कुछ हुआ एक कपल के साथ  एक कपल ने  नया घर खरीदा  घर की पेमेंट कर रहे थे और गलत बैंक डिटेल डालने की वजह से पैसे किसी और के अकाउंट में ट्रांसफर हो गई जिस व्यक्ति के अकाउंट में यह पैसे गए उसका नाम था अ है अब्देल घडिया। 

tran

 24 साल  के इस शख्स ने ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में रहता है और पेशे से एक रैपर  पर है उसने पुलिस को बताया कि जब वह सोकर उठा था अकाउंट में करोड़ों रुपए देखे , इसके बाद अलग-अलग जगहों से करीब 5 करोड़ का गोल्ड खरीदा ₹90000 की शॉपिंग की , बचे हुए पैसे एटीएम से निकाल लिए,  महंगे कपड़े, मेकअप जैसे सामान खरीद लिए जब इस बात का खुलासा हुआ था वह जेल गया।  2 नवंबर कोअब्देल को सिडनी कोर्ट में पेश किया गया जहां उसे बैंक फ्रॉड से जुड़े मामले में दोषी ठहराया गया दिसंबर में उसकी सजा का ऐलान होगा। मामला पढ़कर ऐसा लग रहा है आस्ट्रेलिया वाले भी ऐसा ही करते हैं हमारे देश में भी कई ऐसी घटनाएं होती है छोटी मोटी रकम तो लोग खर्च भी डालते  हैं ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि अगर गलत अकाउंट में पैसे ट्रांसफर हो जाएगा सामने वाला अनजान शख्स उन पैसों को खर्च कर दे तो भारत  में इसे लेकर क्या कानून है। 

trans

अगर हमारे अकाउंट में गलती से पैसे ट्रांसफर कर दे तो क्या होता है और वही अगर हमारे अकाउंट में गलती से किसी अनजान के पैसे आ जाए तो हमें क्या करना चाहिए?

सबसे पहले बैंक को इस बात की जानकारी दे ,अपने और किसीके  बैंक अकाउंट से पैसे गलती से ट्रांसफर हुए हैं दोनों के बारे में डिटेल बताये  बैंक के बाद पुलिस को भी इस बात की जानकारी दी याद रखें जो भी पैसा आपके अकाउंट में ट्रांसफर हुए हैं हो सकता है वह किसी का गैरकानूनी फंड हो या किसी देश विरोधी एक्टिविटी के लिए भेजे जाने वाले पैसे हो ऐसी सिचुएशन में आप पर भी शक का कांटा घूम सकता है इसलिए पुलिस को इस बात की जानकारी देना जरूरी है। 

tranc

  क्रिएटिव में जो IPC की धारा 406 का जिक्र है वो क्यों और कब लगती है?


 अगर गलती से आपके अकाउंट में आए पैसे खर्च कर दिए तो आपके साथ क्या हो सकता है । आपके ऊपर केस कर सकता है जिसके पैसे आपने खर्च कर दिए हैं आप के खिलाफ सिविल प्रोसीजर कोड में सेक्शन 34 -36 के तहत रिकवरी का केस फाइल कर सकता है ऐसी सिचुएशन में बैंक और कोर्ट भी उसकी मदद करते हैं अगर कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति की प्रॉपर्टी है किसी भी प्रकार के पैसे पर थोड़े समय के लिए अधिकार मिलने पर उसका गलत इस्तेमाल करें उसके  पैसे को खर्च करें या फिर फर्जी तरीके से अपना नाम करवा ले तब उस पर आईपीसी की धारा 406 के तहत एक्शन लिया जाता है।