Movie prime

Shraddha Murder Case :श्रद्धा ने देखे थे अपने फ्यूचर के बड़े -बड़े सपने ,आफताब आने के बाद ऐसे बदली जिंदगी

 

 श्रद्धा हत्याकांड कांड में पुलिस ने उसके  लीव इन  पार्टनरशिप आफताब अमीन पुणेवालों को गिरफ्तार किया है। उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया श्रद्धा के साथ कॉलेज में पढ़ाई करने वाले  उनके दोस्त रजत शुक्ला ने बताया कि कैसे आफताब की जिंदगी में आने के बाद श्रद्धा बदलने लगी थी। रजत शुक्ला ने एक बयान जारी  कर कहा की  ,घटना के बारे में सोचकर ही आत्मा कांप जाती है। श्रद्धा और मैं एक साथ पढ़ाई करते थे वो  पत्रकार बनना चाहती थी और काफी एक्टिव 30 साल 2018 में उसके जीवन में आफताब आया जिससे उसमें बदलाव आने लगे लेकिन यह बदलाव अअच्छे नहीं थे वो  मुरझाने लगी थी। 

srdha

26 साल की श्रद्धा वाकर परिवार के साथ महाराष्ट्र में पालघर में रहती थी

हमें 2019 के बारे में पता चला शुरुआत में आफताब  साधारण इंसान लगाया गया था कि काम के चलते दोनों दिली शिफ्ट हुए थे हैं जिस तरह से उसकी हत्या हुई है सोचकर आत्मा काँप जाती है इसके पीछे बड़ी साजिश का शक जताया और कहा कि ये कहानी प्रेम कहानी नहीं हो सकती ,किसी प्रेम कहानी का अंत इस तरह से नहीं होता है। 26 साल की श्रद्धा वाकर परिवार के साथ महाराष्ट्र में पालघर में रहती थी एक मल्टीनेशनल कंपनी में कॉल सेंटर में काम करने के दौरान श्रद्धा की आफताब से मुलाकात हुई। 

srdha

पुलिस ने बीते शनिवार को आफताब को उसके फ्लेट से अरेस्ट में ले लिया

दोनों एक-दूसरे को पसंद करने लगे। जब परिवार को इस के बारे में जानकारी हुई तो उन्होंने विरोध किया तब  श्रद्धा ने गुस्से में आकर अपना घर छोड़ दिया वो आफताब के रहने लगी  फिर अचानक मुंबई छोड़कर दिल्ली आ गए। यह महरौली के छतरपुर इलाके में रहने लगे लेयहां महरौली के छतरपुर इलाके में रहने लगे. लेकिन इसी बीच श्रद्धा का फोन नम्बर बन्द आने लगा श्रद्धा वाकर के  पिता  ने बताया था कि वह 8 नवंबर को छतरपुर स्थित श्रद्धा  के फ्लैट पर पहुंचे तो फ्लैट के दरवाजे पर ताला मिला। फिर उन्होंने महरौली थाने में पहुंचकर एफआईआर दर्ज करवाई। पुलिस ने बीते शनिवार को आफताब को उसके फ्लेट से अरेस्ट में ले लिया पुलिस ने बताया कि आरोपी आफताब ने कहा कि वह लड़ाई के बाद चली गई थी लेकिन बाद में उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया।