Movie prime

राजस्थान सीएम ने कोचीन सेंटर्स को लकेर जारी की तगड़ी गाइडलाइंस ,अब छात्रों को बहलाना पड़ सकता है महंगा

 

राजस्थान सरकार ने प्रदेश के कोचिंग माफिया पर नकेल कसने के लिए गाइडलाइन जारी की है जिसके तहत प्रदेश भर में कोचिंग निगरानी समिति का गठन किया जाएगा। जिसमें पुलिस प्रशासन के साथ-साथ अभिभावकों और डॉक्टरों को भी शामिल किया जाएगा। वहीं शिकायतों के लिए ऑनलाइन पोर्टल बनाया जाएगा जिसकी  निगरानी में मुख्यमंत्री स्तर पर की जाएगी। 

ashok

सरकार ने कोचिंग गाइडलाइन 2022 तैयार की है जिसमें स्टूडेंट की  शैक्षिक व्यवस्था में सुधार के साथ उनकी मानसिक स्थिति को बेहतर बनाने के लिए काम किया गया है

सीएम अशोक गहलोत ने बताया कि देश भर में प्रतिस्पर्धा और शैक्षणिक दबाव के  चलते स्टूडेंट्स काफी परेशान है। पिछले कुछ समय से काफी स्टूडेंट्स ने आत्महत्या भी कर लिया। इसलिए स्टूडेंट्स की समस्या को दूर करने के लिए सरकार ने कोचिंग गाइडलाइन 2022 तैयार की है जिसमें स्टूडेंट की  शैक्षिक व्यवस्था में सुधार के साथ उनकी मानसिक स्थिति को बेहतर बनाने के लिए काम किया गया है। इसके लिए सरकार के अधिकारियों कर्मचारियों के साथ अभिभावकों की टीम और डॉक्टर से भी लगातार कोचिंग संस्थानों की मॉनिटरिंग करेंगे। 

ashok

कोचिंग संस्थानों में पढ़ रहे स्टूडेंट्स को आईआईटी और मेडिकल संस्थानों की प्रवेश परीक्षा में सफल न होने की स्थिति में दूसरे कॅरियर ऑप्शन  के बारे में बताया जाएगा

ऐसे में जो भी कोचिंग संस्थान सरकार की गाइडलाइन की पालना नहीं करेगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। कोचिंग संस्थानों में पढ़ रहे स्टूडेंट्स को आईआईटी और मेडिकल संस्थानों की प्रवेश परीक्षा में सफल न होने की स्थिति में दूसरे कॅरियर ऑप्शन  के बारे में बताया जाएगा। 

ashok

 स्टूडेंट के कोचिंग संस्थान छोड़ने की स्थिति में ईजी एक्जिट पॉलिसी और फीस रिफण्ड का प्रावधान किया गया है कोचिंग संस्थान के खिलाफ स्टूडेंट की समस्या बताने के लिए कंप्लेंट पोर्टल बनाया जाएगा। कोचिंग सेंटर में काम करने वाले सभी कर्मचारियों का पुलिस वेरिफिकेशन करना अनिवार्य होगा। कोचिंग संस्थानों द्वारा झूठे और फर्जी विज्ञापन दिखाकर छात्रों को बेवकूफ बनाने पर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।