Movie prime
ओमीक्रॉन से हो रहा है बच्चो में हार्ट अटेक का खतरा ,शोध में हुआ चौंकाने वाला खुलासा
 

कोरोना पूरी दुनिया में फिर से तहलका मचाने के लिए तैयार है वही इसी बीच वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि  कोरोना के मुकाबले का ओमीक्रान वेरियंट बच्चों के लिए काफी खतरनाक है बच्चों में ओमीक्रान  की  वजह से दिल का दौरा भी पड़ सकता है इस कारण ओमिक्रॉन से उनके ऊपरी वायुमार्ग में होने वाला संक्रमण (यूएआई) है यूयूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो में हुए अध्ययन में शोधकर्ताओं ने 19 साल की उम्र तक के अस्पताल में भर्ती 18849 कोरोना मरीजों के पर बीमारी के असर का आकलन किया है। 

yu

अमेरिका के नॉर्थ वेस्ट यूनिवर्सिटी और स्टोनी ब्रुक यूनिवर्सिटी के शोधार्थी भी इस अध्ययन  में शामिल हुए हैं अध्ययन में पाया गया है कि छोटी उम्र में बच्चों में ओमीक्रान  के कारण यूएई का खतरा अधिक होता है इसमें ओमीक्रॉन  के पूरी तरह हावी होने से पहले औसत 4 से 5 महीने के बच्चों का खतरा अधिक था ओमीक्रॉन  की सक्रिय लहर के दौरान 2 साल तक के बच्चों पर भी खतरा बढ़ जाता है हालांकि गंभीर क्रोनिक  स्थिति के बारे में बात करें तो लहर से पहले और उसके दौरान बढ़ती हुई बच्चों की संख्या में काफी अंतर नहीं था। 

ty

21। 1 फ़ीसदी बच्चों में ही कोरोना और यूएई दोनों की स्थिति गंभीर हुई थी जिसमें सांस लेने के लिए उनके नली डालनी पड़ी थी अगर  संक्रमण  की स्थिति बिगड़ती है तो बच्चों में दिल का दौरा भी पड़ सकता है यह शोध पिछले  हफ्ते जामा पीडियाट्रिक्स जनरल में प्रकाशित हुआ एक रिपोर्ट के अनुसार कई सवाल उठने के बाद भी कोरोनारोधी  का देश में करोड़ों जिंदगियों को बचाने में कामयाब रहा नई दिल्ली स्थित आईजीआईबी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ विनोद स्कारिया  का कहना है कि ओमीक्रॉन की तरह इस बार भी बीमारी का असर काफी नियंत्रित स्थिति में है जो सीधे तौर पर कोरोना टीकाकरण की वजह से ही संभव हो पाया है उन्होंने कहा कि समय-समय पर कोरोना की लहार आती रहेगी लेकिन कोरोना की वजह से हल्का रखा जा सकता है।