Movie prime
OMG :कानपूर हिंसा को लेकर हुए बड़े खुलासे ,हो गयी इतने दिन पहले ही इसकी तैयारी ,ये बड़े लोग कर रहे थे फंडिंग
 

कानपुर हिंसा  मामले में एक के बाद एक कई खुलासे हो रहे हैं हिंसा की जांच में जुटी  एटीएस यानी एंटी टेररिज्म स्क्वाड   और पुलिस कमिश्नर विजय मीणा के द्वारा बनाई गई बनाई गई एसआईटी ने 3 जून को नई सड़क पर भी हिंसा मामले में मास्टरमाइंड  जफर हयात हाशमी समेत उसके तीन साथियों यूट्यूब चैनल चलाने वाले  जावेद अहमद, मोहम्मद सुफियान और मोहम्मद साहिल बंद कमरों में पूछताछ  हुयी ।

 yu

 करीब 7 घंटों की पूछताछ के बाद उन्होंने कई बड़े खुलासे किए सभी आरोपियों की रिमांड लेकर पुलिस ने कानपुर साउथ जोन के बर्रा थाने में पूछताछ की इस दौरान जफर हाशमी जो घटना का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है उसने कई बड़े खुलासे किए सूत्रों की माने तो एटीएस के सामने किए कबूलनामे में जफर ने बताया कि 3 जून को उपद्रव  के लिए तैयारियां कई दिनों से चल रही थी इसके लिए क्राउडफंडिंग तो की गई थी साथ ही उपद्रव करने के लिए कानपुर से सटे जिले उन्नाव से भी भीड़ को बुलाया गया था फंडिंग को लेकर मास्टर ामाइण्ड ने कई बड़े  खुलासे किए हैं उसने बताया कि शहर के मुस्लिम आबादी में अवैध निर्माण कर करोड़ों कमाने वाले बिल्डरों ने पैसा मुहैया करवाया था इसकी पूरी हिंसा में सबसे ज्यादा फंडिंग करने का काम  क्षेत्र के सबसे चर्चित मोहम्मद वसीम ने किया था। 

ty

पूर्व में हुई एक बड़ी घटना में भी मोहम्मद वसी से  एटीएस टीम ने पूछताछ की थी इस बार 3 जून   में भी क्राउड फंडिंग को लेकर मोहम्मद वसी का नाम फिर सामने आया है   एसआईटी टीम की रडार पर इस वक्त बिल्डर है. जिसे पुलिस टीम कभी भी हिरासत में लेकर पूछताछ कर सकती है। 

ty

 हालांकि सूत्रों के अनुसार पुलिस की कई टीमों ने बिल्डर के ठिकानों पर छापेमारी है लेकिन मौके पर वह नहीं मिला है हिंसा मामले में आरोपी जावेद ने बताया कि उसके यूट्यूब चैनलों को फंडिंग की जाती है इस चैनल में काम करने वाले सभी कर्मचारी मुसलमान रखे जाते हैं चैनल पर ऐसी खबरें चलाई जाती है जिसमें एक पक्ष को पीड़ित दिखाकर उन्हें बरगलाने  का काम किया जाता है मामले में बिरयानी बेचने वाले बड़े  व्यापारियों का भी नाम सामने आया है   एसआईटी की  अलग-अलग टीमें पूरी मामले की जांच कर रही है जिसमें अब तक सामने आए  सभी नामों को कभी भी हिरासत में लेकर पूछताछ हो सकती  है।