Movie prime
ब्रिटिश शाशनकाल में हुयी हत्याओं के लिए अब भारत में हो रही है ब्रिटिश पीएम से माफ़ी की मांग
 

ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन भारत यात्रा पर पहुंचे हैं लेकिन उनसे गुजरात में उपनिवेशन काल में हुए नरसंहार के 100 साल बाद माफी मांगने की मांग की जा रही है गुजरात में 1200 लोग ब्रिटिश शासन के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए मारे गए थे पिछले महीने ही  पाल-दाढवाव के 100 साल पूरे हुए इतिहासकारों का कहना है कि समाज सुधारक मोतीलाल तेजावत के नेतृत्व में करीब 2000 आदिवासी ब्रिटिश  शोषण ,जबरन मजदूरी और उच्च टैक्स के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे। 

io

गुजरात सरकार के अनुसार ब्रिटिश मेजर एचजी सुटन ने अपने सैनिकों को उन पर गोली चलाने के आदेश दिए थे गुजरात सरकार के अनुसार किसी युद्ध क्षेत्र की तरह पूरा इलाका शवों  से भर गया साथ ही आगे कहा जाता है कि 2 कुओ में शव  ऊपर की तरफ तैर रहे थे वार्षिक गणतंत्र दिवस पर इस साल गुजरात की तरफ से आई प्रदर्शनी में इन हत्याओं को आदिवासियों के साहस और बलिदान की अनकही कहानी के तौर पर पेश किया है। 

io

जॉनसन जो फिलहाल कोरोना लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री आवास पर हुई लॉकडाउन   पार्टियों के कारण विवाद से गिरे थे वह तो गुजरात के सबसे बड़े शहर अहमदाबाद पहुंचे हैं भारत में वह 2 दिन की यात्रा के लिए आए हैं श्री तेजावत के पोते महेंद्र ने कहा कि जिस समय ये हत्याएं हुई यहां ब्रिटिश शासन था अगर ब्रिटिश प्रधानमंत्री आ रहे हैं तो उन्हें माफी मांगनी चाहिए।