Movie prime

अगर आपने लगाया है Paytm,Nykaa या Delhivery में पैसा तो पहले जान ले ये जरूरी बातें

 

अगर आपने  Nykaa, Paytm, Delhivery और Policy Bazaar के शेयरों में पैसा लगाया है तो एनालिस्ट में रिटेल निवेशकों को सतर्क रहने का सुझाव दिया है। दरअसल इन सभी कंपनियों में नवंबर में उन निवेशकों की लॉक-इन एक्सपायरी है जिन्होंने IPO से पहले इन कंपनियों में निवेश किया था एक अनुमान है कि इन कंपनियों में करीब 87000 करोड रुपए के ऐसे शेयर  है जिनमें नवंबर में लॉक-इन  खत्म होने वाला है। 

paytm

जानकार मानते हैं कि बाजार की मौजूदा स्थिति को देखते हुए  PE फंड्स इन कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी नहीं बेचेगी

 Nykaa, Policy Bazaar, Paytm और Delhivery आईपीओ से कंपनियों ने करीब 34 ,600 करोड रुपए जुटाए हैं पिछले 1 महीने के दौरान इन शेयरों में औसतन करीब 19 परसेंट की गिरावट देखने को मिली है जबकि ब्रॉडर इंडेक्स निफ्टी और सेंसेक्स की बात करें तो इनमें करीब 4 परसेंट की तेजी देखने को मिली है। जानकार मानते हैं कि बाजार की मौजूदा स्थिति को देखते हुए  PE फंड्स इन कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी नहीं बेचेगी एक बात यह भी है कि नए दौर में शेयरों  के भाव ज्यादा है और इनके लिए खरीददार ढूंढना भी काफी मुश्किल है, ऐसे में निवेशक इन कंपनियों से करीब 5000 -10000 करोड़ रूपये तक निकाल सकते हैं। 

paytm

IPO से पहले हिस्सेदारी खरीदने वाले निवेशक मौका मिलते ही बाहर निकलने की कोशिश करेंगे जो PE फंड्स या VC अभी मुनाफे पर बैठे हैं

इसके अलावा रिटेल निवेशकों को यह देखना चाहिए कि पहले इन फंड्स ने इन कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी को किस तरह से घटाया है। जानकार मानते हैं कि इन कंपनियों में आगे भी कमजोरियां देखने को मिल सकती है। क्योंकि अभी तक भी यह कंपनियां मुनाफे को लेकर संघर्ष कर रही है। ऐसे में IPO से पहले हिस्सेदारी खरीदने वाले निवेशक मौका मिलते ही बाहर निकलने की कोशिश करेंगे जो PE फंड्स या VC अभी मुनाफे पर बैठे हैं, उनकी तरफ से बिकवाली का दबाव ज्यादा होगा। बहुत कम निवेशक जो अगले दो-तीन साल में नए दौर में इन कंपनियों से जबरदस्त मुनाफे की उम्मीद में होंगे।