Movie prime
आईपीएस ने बताया कैसे बंदरो को बिना किसी हथियार के भी भगाया जा सकता है ,बोले अब डंडाधारी गार्ड्स की ड्यूटी खत्म
 

बंदरों के आतंक को लेकर अक्सर लोग परेशान रहते हैं क्योंकि खाने और पीने की तलाश में  बंदर लोगों के घरों में घुस जाते हैं आप में से बहुत से लोग बंदरों को भगाने के लिए पत्थर -लाठी और डंडों का इस्तेमाल भी करते हैं लेकिन क्या आपने कभी सोचा है की इन बेजुबानो को मार कर नहीं बल्कि प्यार और सम्मान के साथ भी समझाया और भगाया जा सकता है। 

bander

अगर आपको अजीब लगता है तो आपको यूपी के आईपीएस अधिकारी नवनीत सिकेरा कि यह फेसबुक पोस्ट जरूर देखनी चाहिए आईपीएस अधिकारी ने अपनी पोस्ट फेसबुक में लिखा , 93 परसेंट कम्युनिकेशन नॉनवर्बल होता है मतलब 93 परसेंट बातें बिना कहीं समझी जाती है यहां  पीटीसी उन्नाव के बारे में बहुत सारे बंदर है एक होमगार्ड की ड्यूटी बंदरो के लिए ही लगाई जाती है मैंने पूछा क्यों तो बताया गया कि बंदर बहुत बदमाश होते हैं और काट  भी लेते हैं सबसे पहले काम किया डंडा धारी पहलवान की ड्यूटी खत्म करने का और बंदरों के सहज  से होना शुरू हुआ अब हर शाम को बंदरो का परिवार आता है  और शांति से वापस चला जाता है आज तक बंदरों ने किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाया है। 

bander

तस्वीरों में जो बंदर दिख रहा है इनका ,सबसे तगड़ा है अब वह मेरे पास सहज रूप से आकर बैठ जाता है और मैं समझ जाता हूं कि उसे क्या चाहिए यहां मैं उसे  शरबत पिला रहा हूं और शांति से बैठ कर पी रहा है प्यार से सम्मान से किसी को अप्रोच कीजिए आपको सफलता मिलेगी याद रखिए सम्मान की बातों में नहीं निगाहों में होत अब आईपीएस नवनीत का ये  पोस्ट लोग काफी शेयर कर ले हैं इस इस पोस्ट को अब तक कई हजार से अधिक रिएक्शन  और प्रतिक्रियाएं मिल चुकी है।