Movie prime
ED ने तीन महीनो में जपत किये 100 करोड़ रूपये ,यहां जाने जप्त किये हुए पैसों का क्या करती है
 

हाल ही में अवैध पेसो से जुड़े कई के सामने आए जिसमें ईडी ने एक बड़ी बड़ी कार्रवाई की है ईडी ने कार्यवाही करके पिछले 3 महीने में करीब 100 करोड रुपए जमा किए हैं हाल ही में कोलकाता के निवासी फ्रॉड बिजनेसमैन में इसकी कंपनी पर धावा बोला और फर्जी मोबाइल गेम से संबंधित कंपनी के मालिक के पास ईडी ने ₹170000000 जप्त किए हैं इस पूरे मामले में करीब 8 बैंक कर्मचारी और एक कैश काउंटिंग मशीन को मौके पर बुलाया गया ताकि गैस की गिनती की जा सके। 

edi

आर्थिक मामलों की जांच करने वाली एजेंसी ने कुछ हफ्ते पहले पश्चिम बंगाल की निलंबित मंत्री पार्थ चटर्जी उर्फ अर्पिता चटर्जी के अपार्टमेंट में एसएससी स्कैम   के हाथ होने के चलते 50 करोड़ रुपए जब्त किए गए थे पार्थो चटर्जी ग्रुप सी और ग्रुप डी की भर्ती के साथ असिस्टेंट टीचर की भर्ती स्कीम के कथित रूप से आरोपी है अब इन सभी खबरों को सुनने के  आपके मन में यह सवाल आता होगा कि आखिर जपत  हुए इन पैसों का क्या होता है। 

ed


दरअसल  ईडी  जिन भी पैसों को जप्त करती है लेकिन इसके बाद आरोपी को  पैसों का पूरा विवरण देने के लिए समय दिया जाता है अगर वह पैसों का सोर्स को ठीक से नहीं बता पाता है उस पैसे को बेईमानी से कमाया गया मान लिया जाता है। 

ed

ईडी प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट यानी पीएमएलए के तहत दर्ज केस को जप्त करती है और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अधिकारियों को जांच किए ही पैसों को गिनने  बुलाती है एक बार गिनती पूरी हो जाए तो  ईडी एक जब्ती लेटर  बनाती है जिसमें सारी जानकारी दी जाती है यह पूरी प्रक्रिया बैंक अधिकारियों के सामने होती है जब्ती लेटर में टोटल कैश और नोट्स का विवरण होता है  इस प्रक्रिया के बाद इस पूरे पैसे और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को भेज दिया जाता है जहां एक पर्सनल डिपार्टमेंट बनाकर जप्त किए हुए पैसों को ईडी के अकाउंट में जमा कर दिया जाता है।