Movie prime
Cyrus Mystery:रतन टाटा से विवाद कर हुए टाटा ग्रुप से अलग ,सबसे कम उम्र में बने टाटा के चेयरमेन
 

साइरस मिस्त्री टाटा संस के छठे  चेयरमैन थे और उन्होंने 2012 में रतन टाटा का पदभार संभाला था मिस्त्री को 24 अक्टूबर 2016 को टाटा संस के चेयरमैन पद से हटा दिया गया और बाद में 6 फरवरी 2017 को होल्डिंग कंपनी के बोर्ड डायरेक्टर के रूप में भी हटा दिया गया रविवार को साइरस मिस्त्री का सड़क दुर्घटना में निधन हो गया मुंबई के पास पालघर के कासा के पास मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर यह खतरनाक हादसा हुआ साइरस मिस्त्री का जन्म 4 जुलाई 1968 को हुआ था और उनकी स्कूली पढ़ाई मुंबई के कैथ्रेडल एंड जॉन कॉनन स्कूल से हुई है .

sairas

लंदन के इंपीरियल कॉलेज से उन्होंने इंजीनियरिंग में भी की है और लंदन बिजनेस स्कूल से मैनेजमेंट की मास्टर डिग्री भी ली है 1993 में पालोनजी शापूरजी ग्रुप में काम करना शुरू किया उसके बाद उन्हें 1994 में वहां का ग्रुप डायरेक्टर बनाया गया 2006 में उन्हें टाटा ग्रुप में शामिल किया गया और 2011 में मिस्त्री को टाटा ग्रुप का उपाध्यक्ष बनाया गया और 2012 में साइरस मिस्त्री को टाटा संस का चेयरमैन बनाया गया 2016 में उन्हें इस पद से हटा दिया गया टाटा ग्रुप के सर्वे सेवा बनाए जाने की घोषणा के दूसरे दिन जब टाटा मुंबई स्थित मुख्यालय मुंबई हाउस में साधारण  पेंट शर्ट पहने हुए थे जबकि उनका स्वागत करने वाले लोग सूट-बूट में आए थे। 

sairas

मुंबई के कैप एंड जॉन कॉनन स्कूल में पढ़ने वाले  साइरस मिस्त्री  के बच्चों में आसानी से पहचाने जाते थे वो चमचमाती कार में स्कूल जाते थे लेकिन क्लास में एकदम सामान्य व्यवहार करते थे रतन टाटा के डिप्टी चेयरमैन के रूप में निर्णय उनके गुणों से प्रभावित हुए अक्टूबर 2016 में रतन टाटा से विवाद के बाद मिस्त्री का चेयरमैन पद से हटा दिया गया और दिसंबर 2019 में एनसीएलटी ने मिस्त्री को एडजेक्टिव चेयरमैन बनाने का आदेश दिया एनसीएलटी के फैसले के खिलाफ 18 दिसंबर 2019 में टाटा सन सुप्रीम कोर्ट पहुंची 10 जनवरी 2020 को सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलटी के फैसले पर स्टे लगाने के आदेश दिए 26 मार्च 2021 को सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलटी की रोक के आदेश को खारिज कर दिया।