Movie prime

बद्रीनाथ जाने वाले रास्ते पर आयी दरारें , गहराते संकट के बीच चीन से भी सीमा कटने का अंदेशा

 

बदरीनाथ नेशनल हाईवे पर ताजा दरारें नजर आई हैं और इसकी तस्वीरें भी सामने आई हैं। जोशीमठ में बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक से दो मीटर लंबी दरारें आ गई हैं, जो बद्रीनाथ की ओर जाने वाली एकमात्र सड़क है, जो लाखों हिंदुओं की आस्था का स्थान है। इन दरारों को देखने के बाद क्षेत्र के लोगों में भय का माहौल है और इस बात की चर्चा है कि आखिर इस समस्या का समाधान कैसे होगा ।

शहर की कम से कम 181 इमारतों को असुरक्षित क्षेत्र में रखा गया है

जिला अधिकारियों ने, हालांकि, कहा कि दरारें 'चिंता का कारण' नहीं हैं और बद्रीनाथ की वार्षिक तीर्थयात्रा से पहले मरम्मत की जाएगी, जो आमतौर पर मई में शुरू होती है।बद्रीनाथ और हेमकुंड साहिब तीर्थ स्थलों के प्रवेश द्वार के रूप में जाने जाने वाले जोशीमठ में लगभग 4,500 इमारतों के 863 से अधिक घरों में अक्टूबर 2021 से दरारें आ गई हैं। शहर की कम से कम 181 इमारतों को असुरक्षित क्षेत्र में रखा गया है, और 275 परिवार जिला अधिकारियों ने सूचित किया है कि सुरक्षित क्षेत्रों में ले जाया गया है। केंद्रीय भवन अनुसंधान संस्थान के विशेषज्ञों का हवाला देते हुए चमोली के जिलाधिकारी हिमांशु खुराना ने कहा कि बद्रीनाथ राजमार्ग पर एक छोटी सी दरार लोड के कारण आई है, लेकिन यह चिंता का कारण नहीं है।

यात्रा से पहले सड़क की मरम्मत करना सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती होगी

आपदा प्रबंधन सचिव रंजीत सिन्हा ने बताया कि हाईवे के जमीन धंसने पर प्रशासन पैनी नजर रखे हुए है । सिन्हा ने बताया कि संबंधित एजेंसियों को सड़क की मरम्मत के निर्देश दे दिये गये हैं. उन्होंने कहा कि चार धाम यात्रा से पहले इसे पूरी तरह से दुरुस्त कर लिया जाएगा। यात्रा से पहले सड़क की मरम्मत करना सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती होगी।

दरारों को देखते हुए बदरीनाथ धाम जाने वाले रास्ते में रुकावट के साथ ही भारतीय सेना का चीन सीमा से संपर्क भी टूट सकता है । क्षेत्र का दौरा करने के बाद भूवैज्ञानिक प्रो एम.पी.एस. बिष्ट ने कहा कि दरारों का पैटर्न समानांतर है। इसके अलावा सड़क के किनारे बड़े-बड़े पत्थरों का गिरना भी सरकार के लिए चिंता का सबब बनता जा रहा है।