Movie prime
बिहार में जब्त शराब बोतलों से अब बनेगी चूड़ियाँ ,बेरोजगार महिलाओ को मिलेगा रोजगार ,यहां जाने क्या है पूरी योजना
 

बिहार में ग्रामीण महिलाओं  और कचरा बीनने और  काम करने वाली महिलाओं  से जपत  शराब की बोतलों से कांच की चूड़ियां बनाने का काम किया जाएगा राज्य सरकार के निषेध विभाग ने ग्रामीण आजीविका कार्यक्रम जीविका से जुड़ी महिलाओं के साथ जुड़ी निर्माण इकाई स्थापित करने के लिए बीज राशि के रूप में एक करोड रुपए मंजूर किए हैं मद्य निषेध एवं आबकारी मंत्री ने कहा कि राज्य में हर साल बड़ी मात्रा में शराब की बोतलें जप्त होती है और जब्त की  गई बोतलों को निपटाने में अधिकारियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है उन्होंने कहा कि जब्त शराब की बोतलों का अर्थ मूवर्स का उपयोग करके कुचल दिया जाता है जिसके परिणाम स्वरुप भारी कचरा भी होता है। 

chudia

अब इस पहल के एक भाग के रूप में विभाग इन कांच की बोतलों से कांच की चूड़ियों का निर्माण करेगी और जीविका श्रमिकों को कच्चे माल के रूप में कुचली  हुई बोतले प्रदान  करेगी ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जीविका श्रमिकों को एक समूह को कांच की चूड़ियां बनाने के लिए प्रशिक्षित किया जा रहा है उन्होंने कहा कि इस योजना का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों विशेषकर महिलाओं के लिए रोजगार पैदा करना है। 

chudia

जीविका  कार्यकर्ता से पहले एलईडी ट्यूबलाइट और बल्ब के निर्माण में लगे हुए हैं और अब वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर है कुमार ने कहा, उनका विभाग चूड़ी निर्माण पहल पर निषेध विभाग के साथ काम कर रहा है आपको बता दें कि बिहार ने अप्रैल 2016 में शराब पर प्रतिबंध लगा दिया था  भंडारण परिवहन बिक्री खपत और निर्माण को दंडनीय अपराध बना दिया पुलिस के अनुसार इस साल जनवरी से मई के बीच राज्य ने 13 पॉइंट 8700000  लीटर से ज्यादा शराब जप्त की।