Movie prime
देश में मंकिपॉक्स का पहला मरीज मिलने के बाद डॉक्टर्स की चेतावनी ,बच्चो के लिए हो सकता है खतरनाक साबित
 

भारत में मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आने के बाद ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस के विशेषज्ञ ने कहा कि वायरल की बीमारी के संक्रमकता  कम है लेकिन ये बच्चों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है एम्स के  मेडिसिन विभाग के डॉक्टर ने कहा कि मंकीपॉक्स की संक्रामकता  कम है लेकिन यह बच्चों के लिए घातक है। 

mnki

कोरोना के संक्रमण में संक्रामकता बहुत ज्यादा है लेकिन एक संक्रमित व्यक्ति के साथ लंबे समय तक संपर्क में रहने के बाद मंकीपॉक्स का संक्रमण होता है इसलिए कोरोना की संक्रमण की दर ज्यादा है और एक संक्रमित व्यक्ति कई लोगों को संक्रमित कर सकता हैं लेकिन मंकीपॉक्स कम संक्रामक होता है लक्षणों के बारे में बताते  हुए डॉ रंजन ने कहा की  मंकीपॉक्स के लक्षण चेचक और चिकन पॉक्स की तरह होते हैं शुरुआत में से संक्रमित मरीजों को बुखार और लिंफ नोड्स का बढ़ जाना है 1 से 5 दिनों पर  चेहरे ,हथेली और तलवों के चकत्ते  निकल सकते हैं कॉर्निया में रेशेज  हो सकते हैं जिससे अंधापन हो सकता है। 

mnki

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने मंकीपॉक्स रोग के लिए शुक्रवार को निर्देश जारी किए हैं मंत्रालय ने आम जनता के लिए बीमारी की  बचने के लिए कई बिंदुओं की एक लिस्ट जारी की है जिसमे  लोगों के संपर्क में आने से बचने और मरे हुए जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचने की सलाह दी है कोई आम जनता को सलाह दी गई है कि अगर किसी शख्स को मंकीपॉक्स हो जाता है जानवरों के साथ निकट संपर्क में आता है तो उसे तुरंत हॉस्पिटल जाकर  डॉक्टर से मिलना चाहिए।