Movie prime
आईपीएस बनने के लिए छोड़ी 12 नोकरिया,पिता करते है ऊंट गाडी पर सामान ढोने का काम
 

सक्सेस स्टोरीज में अब तक हमने आपको कई ऐसे शानदार व्यक्तित्व  के बारे में बता चुके हैं जिन्होंने कड़ी संघर्ष के बाद सफलता हासिल की आज हम आपको ऐसी ही शख्सियत के बारे में बताते हैं जिनकी सफलता का सफर काफी संघर्ष भरा और दिलचस्प भरा है  हम बात कर रहे यही  आईपीएस ऑफिसर प्रेमसुख डेलू की जिन्होंने 6 साल में 12 एग्जाम पास कर के सरकारी जॉब हासिल की और आखिरकार आईपीएस ऑफिसर बने आईपीएस प्रेमसुख डेलू बीकानेर जिले के नोखा तहसील के गांव रासीसर के रहने वाले हैं इनका जन्म 3 अप्रैल को 1988 को हुआ था उनके पिता  खेती किसानी करते हैं चार भाई-बहनों में प्रेमसुख सबसे छोटे हैं उनके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी उनके पिता ऊंट गाड़ी चला कर  सामान को एक जगह से दूसरी जगह ले जाने का काम करते थे। 

ips

प्रेम बचपन से ही सरकारी अफसर बनकर परिवार को गरीबी से बाहर निकालने के बारे में सोचते थे इसलिए उनका पूरा ध्यान सिर्फ पढ़ाई पर रहा प्रेमसुख डीलू ने दसवीं की पढ़ाई अपने ही गांव के सरकारी स्कूल से की इसके बाद आगे की पढ़ाई के लिए बीकानेर के राजकीय डूंगर कॉलेज डूंगर कॉलेज से पूरी की जाए उन्होंने इतिहास में m.a. किया और गोल्ड मेडलिस्ट है इसके साथ उन्होंने इतिहास में यूजीसी नेट जेआरएफ की परीक्षा भी पास कर ली प्रेमसुख डीलू के बड़े भाई  राजस्थान  पुलिस में कॉन्स्टेबल है उन्होंने ही प्रेम को प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए प्रेरित किया था प्रेमसुख साल 2010 में ग्रेजुएशन करने के बाद पहली बार प्रतियोगिता परीक्षा में बैठे थे उन्होंने पटवारी की भर्ती के लिए आवेदन किया और उस में सफल हो गए हालांकि इसके बाद भी समझ चुके थे कि उनकी क्षमता इससे कहीं ज्यादा है। 

ips

पटवारी की नौकरी करते हुए उन्होंने मास्टर्स की डिग्री प्राप्त कर ली और नेट भी पास कर लिया पढ़ाई पूरी होने के बाद प्रेमसुख ने राजस्थान ग्राम सेवक की परीक्षा दी इसमें उन्होंने दूसरी रैंक हासिल की इसके बाद उन्होंने  असिस्टेंट जेलर की एग्जाम दी उसमें भी उन्होंने पहला स्थान पास किया जेलर की पोस्ट पर ज्वाइन करने से पहले ही उन्होंने उनके सब इंस्पेक्टर की परीक्षा का परिणाम आ गया और उसमें उनका सिलेक्शन हो गया इतनी एग्जाम पास करने के बाद वह संतुष्ट नहीं हुए इसके बाद प्रेमसुख नहीं रुके और बीएड परीक्षा पास करने के साथ नेट भी क्लियर किया इसके बाद में  कॉलेज में लेक्चरर का पद मिल गया इस दौरान उन्होंने सिविल सर्विसेज परीक्षा देने का फैसला किया कॉलेज की लेक्चरर की पोस्ट पर कार्य करते हुए उन्होंने अपनी तैयारी जारी रखी। 

ips

उन्होंने राजस्थान प्रशासनिक सेवा की परीक्षा दी जहां पर उनका तहसीलदार पर चयन हो गया और प्रेमसुख ने तहसीलदार का पद ज्वाइन कर लिया यहां से उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी जॉब के बाद बचे हुए समय में प्रेम अपना पूरा ध्यान पढ़ाई में लगाते थे साल 2014 में वह पहली बार यूपी के एग्जाम में बैठे हैं लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली उसके बाद फिर वह 2015 में फिर से बैठें इस दूसरे प्रयास में उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा कर ली और ऑल इंडिया में 170 वां रैंक के साथ आईपीएस की पोस्ट मिली उन्हें गुजरात के और उनकी पहली पोस्टिंग गुजरात के अमरेली मेंएसीपी के पद पर हुई है उन्होंने एक इंटरव्यू बताया कि उन्हें हर एक नौकरी से कुछ ना कुछ कुछ ना कुछ सीखने को मिला असिस्टेंट जेलर और सब इंस्पेक्टर बनने के बाद में पुलिस के कर्मचारियों की परेशानियोंके  जानने को मिला रेवेन्यू विभाग में कार्य के दौरान जमीन और संपत्ति संबंधित मामलों को सुलझाने में उन्हें मदद मिली यूपीएससी परीक्षा में इन सब की जानकारी अपनी पढ़ाई की बदौलत आईपीएस ऑफिसर बने।