Movie prime
चंदन की खेती से कमा सकते है करोड़ों का मुनाफा ,जानिए क्या है खेती करने का सबसे सरल तरीका
 

 चंदन का नाम लेते ही मन महक उठता है भारतीय धर्म और संस्कृति में चंदन की लकड़ी को बहुत पवित्र माना जाता है चंदन की लकड़ी दैनिक जीवन में भी बहुत उपयोगी होती है चंदन की लकड़ी का आयुर्वेद में ही नहीं बल्कि सौन्दर्य प्रसाधन में भी काम में लिया जाता है 

PIC
चंदन के पेड़ की विशेषता यह है की इसकी खेती सहूलियत के अनुसार की जा सकती है चाहे तो सारे एरिया में चंदन के पेड़ लगाए जा सकते है और चाहे तो खेत के चारों तरफ इससे परंपरागत खेती भी सुरक्षित रहेगी और व्यापारिक दृष्टि से लाभ की संभावनाएं भी बनी रहेगी 

एक पेड़ से होगी कितनी आमदनी 

चंदन के एक पेड़ से 4 से 5 लाख आराम से कमाए जा सकते है यह ध्यान रहे की चंदन की खरीद और बिक्री पर सरकार का पूर्ण कंट्रोल स्थापित है 2017 में बने नियम के अनुसार चंदन की खेती तो कोई भी कर सकता है लेकिन इसका निर्यात करने का अधिकार सिर्फ सरकार को ही है 
यानि हमारे किसान भाइयों को एक निश्चित और फायदे वाला भाव तो चंदन का मिलेगा ही हम आपको बताएंगे की चंदन की खेती में किन -किन सावधानियों को रखने की जरूरत है 

अकेले ना लगाएं चंदन का पौधा 

यह ध्यान रखने की जरूरत है की चंदन के पौधे को कभी भी अकेला नहीं लगाना चाहिए इसके साथ एक पौधा जरूर लगाएं यह होस्ट पौधा कहा जाता है यह पौधा इसके लिस सपोर्ट का काम करता है जिसे लगाना बहुत जरुरी होता है यह पौधा चंदन के पौधे से 4 से 5 फीट की दुरी पर लगाया जा सकता है 

PIC

अधिक पानी की आवश्यकता नहीं 

चंदन की खेती करते समय यह भी ध्यान रखना चाहिए की इसे अधिक पानी की आवश्यकता नहीं है जितनी जरूरत हो उतना ही पानी देना चाहिए अन्यथा यह पौधा खराब हो जाता है 

 पौधें की उम्र हो लगभग 2 साल 

चंदन के पौधे को ऐसे तो किसी भी महीने में लगा सकते है बस इसे लगते समय यह ध्यान रखें की इसकी उम्र कम से कम 2 साल हो 

साफ सफाई का रखें ध्यान 

चंदन के पौधे को लगाने के बाद साफ -सफाई का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए इसके पास पानी का जमाव न होने दें और न ही दलदल का जमाव होने दें

क्या है पौधे की कीमत

चंदन का पौधा बहुत सस्ता मिलता है यह पौधा 100 रूपये से 130 रूपये में खरीदा जा सकता है चंदन की लकड़ी बहुत महंगी होती है सबसे अच्छी बात यह है की चंदन के पौधे को लगाने के 8 साल तक किसी भी तरह की बहरी सुरक्षा की जरूरत नहीं होती है लेकिन जब यह लकड़ी पकने लगती है तब इसकी महक फैलने लगती है और तब इसकी सुरक्षा के पर्याप्त व्यवस्था करना जरुरी होता है