Movie prime

क्या आप भी जानते है केंद्रीय बजट क्या है ?? बजट शर्तो की परिभाषा

 

केंद्रीय बजट संसद में भारत के वित्त मंत्री द्वारा प्रस्तुत वार्षिक वित्तीय विवरण है, जिसमें आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के व्यय और राजस्व की रूपरेखा होती है। बजट में नई आर्थिक नीतियों की घोषणाएं और कर परिवर्तनों के प्रस्ताव भी शामिल हैं।

केंद्रीय बजट 2023 का अत्यधिक अनुमान लगाया गया है, क्योंकि देश COVID-19 महामारी के आर्थिक प्रभाव से उबर रहा है। बजट, जो आमतौर पर फरवरी के महीने में पेश किया जाता है, आगामी वित्तीय वर्ष के लिए खर्च और राजस्व संग्रह के लिए सरकार की योजनाओं का विवरण देगा। also read : दुधारू पशु खरीदते समय धोखादड़ी से बचना है तो इन चीजों का रखे हमेशा ध्यान

यहां कुछ प्रमुख शब्द दिए गए हैं जिनका बजट 2023 में उपयोग किया जाएगा:

राजकोषीय घाटा: राजकोषीय घाटा, जो सरकार के कुल राजस्व और कुल व्यय के बीच के अंतर को दर्शाता है। एक उच्च राजकोषीय घाटा यह संकेत दे सकता है कि सरकार कमाई से अधिक खर्च कर रही है, जिससे मुद्रास्फीति और कमजोर मुद्रा हो सकती है।

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी): बजट में एक और महत्वपूर्ण शब्द सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) है, जो किसी देश के समग्र आर्थिक उत्पादन को मापता है। बजट में अक्सर आगामी वित्तीय वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि के अनुमानों के साथ-साथ कृषि, उद्योग और सेवाओं जैसे विभिन्न क्षेत्रों के लिए लक्ष्य शामिल होते हैं।

मुद्रास्फीति: मुद्रास्फीति वह दर है जिस पर वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों का सामान्य स्तर बढ़ रहा है जिसके परिणामस्वरूप लोगों की क्रय शक्ति में गिरावट आती है। भारतीय रिजर्व बैंक, जिसे देश के केंद्रीय बैंक के रूप में जाना जाता है, मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए विभिन्न मौद्रिक नीति उपायों को नियोजित करता है।

राजस्व घाटा: कुल राजस्व की तुलना में सरकार के कुल व्यय का आधिक्य। यह इंगित करता है कि सरकार अपने खर्चों को पूरा करने के लिए उधार ले रही है।

राजकोषीय नीति: यह अर्थव्यवस्था को स्थिर करने के लिए सरकार द्वारा नियोजित उपायों में से एक है, राजकोषीय नीति आर्थिक प्रभाव को बढ़ाने के लिए सरकारी खर्च और कराधान का उपयोग करती है। केंद्रीय बजट भारत में राजकोषीय नीति का एक महत्वपूर्ण उपकरण है क्योंकि यह आने वाले वित्तीय वर्ष के लिए सरकार के खर्च और राजस्व संग्रह योजनाओं की रूपरेखा तैयार करता है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

केंद्रीय बजट का उद्देश्य क्या है?

केंद्रीय बजट का उद्देश्य आगामी वित्तीय वर्ष के लिए खर्च और राजस्व संग्रह के लिए सरकार की योजनाओं की रूपरेखा तैयार करना है। इसमें नई आर्थिक नीतियों की घोषणाएं और कर परिवर्तनों के प्रस्ताव भी शामिल हैं।

 राजकोषीय घाटा क्या है और यह क्यों महत्वपूर्ण है?

राजकोषीय घाटा सरकार के कुल राजस्व और कुल व्यय के बीच के अंतर को दर्शाता है। एक उच्च राजकोषीय घाटा यह संकेत दे सकता है कि सरकार कमाई से अधिक खर्च कर रही है, जिससे मुद्रास्फीति और कमजोर मुद्रा हो सकती है