Movie prime
भगवान श्री कृष्ण को चपन भोग लगाने का क्या है विधान ,यहां जाने
 

श्री कृष्ण भगवान विष्णु की आठवे अवतार हैं उन्हें कई नामों से पुकारा जाता है बचपन से बाल लीलाये  करने और नटखट मिजाज के चलते श्री कृष्ण की प्रसिद्धि बाल्यकाल से ही थी श्रीकृष्ण को छप्पन प्रकार का भोग लगाया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि श्रीकृष्ण को कि 56 प्रकार का भोग क्यों लगाया जाता है। 

io

दरअसल भगवान श्री कृष्ण का बाल्यकाल गोकुल में बिता उनकी माता यशोदा उन्हें हमेशा आठ प्रहर मतलब दिन में 8 बार भोजन कराती थी कथाओ के अनुसार एक बार देवराज इंद्र गोकुल वासियों से दृष्ट हो गए और उन्होंने गोकुल पर बारिश का कहर बरसाया तो भगवान श्री कृष्ण ने 7 दिनों तक बिना खाए -पिए गोवर्धन पर्वत को अपनी उंगली में उठाए रखा। 

io

और जब सातवें दिन जब बारिश रुक गई गोकुल वासी गोवर्धन के नीचे से निकल आए तब उन्हें ध्यान आया कि का 7दिनों से कुछ नहीं खाया है तब माता यशोदा और सभी गोकुल वासियों ने श्री कृष्ण के लिए सात  दिन और आठ पहर के हिसाब से 56 प्रकार के अलग-अलग पकवान बनाए और उन्हें खिलाए तब से उन्हें 56 प्रकार के भोग लगाने का रिवाज चालू हो गय।