Movie prime
टीनएजर्स को सुसाइड से बचाने के लिए माता पिता रखे ऐसे ध्यान ,ये टिप्स आएंगे काम
 

पूरी दुनिया में सुसाइड यानी आत्महत्या एक बड़ी समस्या बन चुकी है कहा जाता था कि पहले सुसाइड  का खतरा केवल ज्यादा उम्र के लोगों में होता था लेकिन अभी युवा और टीनएजर्स भी सुसाइड जैसे घातक कदम उठा रहे हैं पिछले दिनों नेशनल क्राईम रिकॉर्ड्स ब्यूरो ने भारत में साल 2020 के सुसाइड आंकड़े जारी किए इससे पता चला है कि देश में 18 साल से कम उम्र के 11000 से ज्यादा टीनएजर्स ने सुसाइड किया है इनमें 5393 लड़के और 6004 लड़कियां थी 'वर्ल्ड सुसाइड प्रीवेंशन डे' के मौके पर हम आपको बताते हैं कि पेरेंट्स किन बातों का ध्यान में रखकर टीनएजर्स को सुसाइड से बचा सकते हैं। 

susaid

एक रिपोर्ट के अनुसार आदि तक टीनएजर्स मेंटल हेल्थ कंडीशन की वजह से सुसाइड जैसा खतरनाक कदम उठा रहे हैं इसमें अधिक तनाव ,रिजेक्शन, फैलियर ,ब्रेकअप ,स्कूल की मुश्किलें ,फैमिली प्रॉब्लम्स, मेंटल डिसऑर्डर, केरियर की चिंता जैसी कई वजहें शामिल है इसके अलावा भी कई कारण टीनएजर्स को सुसाइड की तरफ धकेल देते हैं जो टीनएजर्स एक बार सुसाइड  अटेम्प्स कर चुके हैं ऐसा उन्हें दोबारा करने का खतरा होता है पेरेंट्स को ऐसे मामलों में विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। 

susaid


पेरेंट्स को टीनएजर से मेंटल हेल्थ को लेकर बातचीत करनी चाहिए अगर वह मेंटल परेशानी ,दुखी या डिप्रेशन जैसी समस्या से जूझ रहे हैं तो तुरंत उनकी मदद करें और सही रास्ता दिखाएं मेंटल डिसऑर्डर के बचाव के लिए डॉक्टर को दिखाना चाहिए और एक्सपर्ट से भी मिलकर राय लेनी चाहिए । 

susaid

अगर टीनएजर्स में सुसाइड का कोई भी लक्षण नजर आ रहा है तो पेरेंट्स उस पर गंभीरता से ध्यान दें और उसकी परेशानियों को दूर करने की कोशिश करें इसके अलावा उसे आइसोलेशन में रहने से बचाएं और अपने आसपास रखें। 

susaid

टीनएजर्स के लिए सोशल मीडिया स्ट्रेस की एक बहुत बड़ी वजह बन रहा है तमाम लोग सोशल मीडिया पर अपनी अनकही फीलिंग बयां करते हैं जिनको पेरेंट्स पर नजर रखनी चाहिए अगर सोशल मीडिया पर टीनएजर्स का कोई परेशानी या बुली  कर रहा है तो इसे लेकर पेरेंट्स को बात करनी चाहिए सोशल मीडिया पर पैनी नजर रखने की एक्टिविटीज को मॉनिटर किया जा सके।