Movie prime
नए बने माता पिता की बच्चे की वजह से हो रही है नींद पूरी तो ऐसे सेट करे बच्चे का सोने का समय
 

नए बने माता-पिता के लिए सबसे बड़ा संघर्ष होता है कि नींद पूरी करना  वे बहुत मेहनत से बेबी को सुलाने की कोशिश करते हैं और बेबी सो भी जाता है पर जैसे उनके सोने का समय का होता है वह भी जाग जाता है कभी-कभी तो पूरा दिन और रात इस संघर्ष के  साथ बीत जाते हैं  यही वजह है की शुरूआती  दिनों में हर माता-पिता बच्चों की स्लिप साइकिल और अपनी नींद पूरी करने के लिए गुग्गल करते हैं अगर आप भी संकट से गुजर रहे हैं हम आपके लिए कुछ टिप्स लेकर आए हैं जब बच्चे पैदा होते हैं तो नई माँ ये नहीं समझता कि उसका बच्चा कब सोता है और  कब जागते हैं जब मां के सोने का समय होता है तो बच्चा जाग जाता है और मां को परेशान करने लगता है ऐसी स्थिति में मां की नींद पूरी नहीं होती। 

sulak

हालांकि नवजात शिशु दिन और रात में ज्यादातर समय सोते रहते हैं और कुछ घंटों के लिए ही दूध पीने के लिए जागते नए  माता-पिता के लिए अक्सर यह जानना मुश्किल होता है कि नवजात शिशु को कितनी देर और कितनी बार सोना चाहिए शुरुआती बच्चे के सोने का कोई निर्धारित समय नहीं होता है दिन में कभी भी सोते और कभी भी रात में जागते रहते हैं यही  मां-बच्चे  के स्लीप साइकिल को कैसे समझाये और  कैसे ठीक ठीक करें ऐसे में आज हम आपको बताते हैं कि अपने बच्चे के सोने और जाने के समय को कैसे समझे। 

sona


 डॉक्टर के अनुसार  आमतौर पर बच्चे  दिन में करीब से आठ दस से 10 घंटे और रात में लगभग 9 घंटे सोते हैं कम से कम 3 महीने तक बच्चे रात में 5 से 6 घंटे तक जाते हैं कुछ तो 1 साल के करीब रात में नहीं सो पाता है इसके पीछे वजह यह है कि नवजात शिशुओं का पेट छोटा होता है और उन्हें दूध पीने के लिए हर कुछ घंटों में जागना पड़ता है। 

sulan

ज्यादातर मामलों में वे हर 3 घंटे में भूखे हो जाते हैं यह उम्र और वजन के अनुसार दूध की मात्रा पर भी निर्भर करता है कभी-कभी कुछ दिक्कतों के कारण भी शिशु रात में ज्यादा देर तक जागता रहता है जानकारी के आभाव में  नई मांएं नींद लाने के लिए बच्चे को बेड पर लिटाकर मुंह में बॉटल पकड़ा देती हैं यह गलत अभ्यास से कान में संक्रमण रोग उत्पन्न हो सकती है यदि आपका बच्चा  लंबे समय तक सोता रहता है या सोते हुए अचानक जाग जाता है रोने लगता है तो उसे कान में संक्रमण की समस्या हो सकती है इसके लिए तुरंत अपने  पेडिएट्रिशियन से मिले। 

sulan

बच्चे खुद नहीं सोना जानते  वे सिर्फ  नींद आने का  संकेत देते है ऐसी स्थति में उसकी  स्लीप साइकिल को ठीक करके सुला सकती है यह सबसे आम है  जैसे ही बच्चे के नींद आने के संकेत मिलते हैं तो ज्यादातर माएं  बच्चे को सोने के हिलाना या  स्तनपान कराना शुरू कर देती है इससे उसका स्लिप  पैटर्न वैसा ही बन जाएगा यह आदत डालने की कोशिश करें कि ब्रेस्ट  फिटिंग कराने के बाद है उसे थोड़ी देर बाहों में झूल आए तब जब उसकी आंखें नींद में जाने लगें, तो उसे धीरे से बेड पर डाल दें इस तरह बच्चा अपने आप सो जाना सीख जाता है।