Movie prime
मौली बांधते समय रखे इन नियमो का ध्यान ,नहीं तो लगेगा पाप
 

हिंदू धर्म में कलावा बांधने का काफी महत्व है किसी भी शुभ कार्य के समय हाथ में कलावा जरूर बाँधा जाता है इसे रक्षा सूत्र भी कहते हैं कहते हैं कि इसे हाथ में बांधने से व्यक्ति की हर तरह से रक्षा होती है लाल और पीले रंग से बने कलावा  को लेकर धार्मिक ग्रंथों में भी कई तरह की मान्यताएं हैं मान्यताओं के अनुसार जीवन में आने वाले सभी संकट और परेशानी से छुटकारा पाने के लिए कलावा माना जाता है और कलावा बांधने से त्रिमूर्ति और त्रिदेवियों की कृपा बनी रहती है लेकिन क्या आप जानते हैं कि किस दिन बांधना चाहिए किस दिन खोलना चाहिए कितनी बार लपेटना चाहिए और किस हाथ में हाथ में बांधना चाहिए उसके बारे में पूरी जानकारी देते हैं। 

io

ज्योतिष के अनुसार क्षा सूत्र या कलावा ऐसे किसी भी दिन नहीं खोल सकते इसलिए इसे खोलने के लिए मंगलवार या शनिवार का दिन रहता है इसे खोलने के बाद पूजा घर में बैठकर दूसरा कलावा हाथों हाथ बांध देना चाहिए कलावा  बांधने की भी कई नियम है। 

io

पुरुष और कुंवारी कन्याओं को दाहिने हाथ में अविवाहित महिलाओं को बाएं हाथ में कलावा बांधना चाहिए कलावा बांधते समय कभी भी खाली हाथ ना रखे  जिस हाथ में कलावा बांधे  उसमें एक सिक्का होना चाहिए और दूसरा हाथ सिर के ऊपर होना चाहिए सामने खड़े व्यक्ति से दो से तीन या पांच बार काले वाला वाला है उसके बाद हाथ में रखी दक्षिणा उस व्यक्ति को दे  दें कलावा  पुराना होने के बाद उसे यहां वहां नहीं फेंकना  चाहिए निकाल कर या तो पीपल के पेड़ के नीचे रख दे या फिर बहते पानी में प्रवाहित कर दें।